विष्णुपद मंदिर के बेहतर प्रबंधन पर 22 को होगी सुनवाई

विष्णुपद मंदिर के बेहतर प्रबंधन पर 22 को होगी सुनवाई

पटना। पटना हाईकोर्ट ने मंगलवार को एक प्रमुख निर्देश देते हुए बिहार सरकार और गया के विष्णुपद मंदिर के प्रबंधन टीम को निर्देश दिया है कि वह 22 सितंबर तक बताएं कि कैसे गया कि विश्व प्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर का बेहतर प्रबंधन सुनिश्चित किया जाए। एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पटना हाई कोर्ट ने यह निर्देश दिया।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 9990436770,9743484858

हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए राज्य सरकार व मंदिर प्रबंधन समिति को विचार-विमर्श कर बताने को कहा कि मंदिर का प्रबंधन आगे कैसे हो। चीफ जस्टिस संजय करोल की खंडपीठ ने गौरव कुमार सिंह की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि यह मंदिर सदियों पुराना है। साथ ही इसके साथ तीर्थयात्रियों की धार्मिक भावनाएं जुड़ी हैं। इसलिए सभी तथ्यों पर गौर करते हुए 22 सितंबर को रिपोर्ट पेश करने कहा गया है।

याचिका में कहा गया है गया कि विष्णुपद मंदिर का प्रबंधन भी तिरुपति बालाजी और वैष्णोदेवी मन्दिर के तर्ज पर सुनिश्चित किया जाए। साथ ही यह भी कहा गया है कि मंदिर एक सार्वजनिक इकाई है। इसलिए इसकी सम्पत्ति का विवरण सार्वजनिक हो।

मंदिर के बेहतर प्रबंधन पर 22 को होगी सुनवाई

पटना। पटना हाईकोर्ट ने मंगलवार को एक प्रमुख निर्देश देते हुए बिहार सरकार और गया के विष्णुपद मंदिर के प्रबंधन टीम को निर्देश दिया है कि वह 22 सितंबर तक बताएं कि कैसे गया कि विश्व प्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर का बेहतर प्रबंधन सुनिश्चित किया जाए। एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पटना हाई कोर्ट ने यह निर्देश दिया।

हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए राज्य सरकार व मंदिर प्रबंधन समिति को विचार-विमर्श कर बताने को कहा कि मंदिर का प्रबंधन आगे कैसे हो। चीफ जस्टिस संजय करोल की खंडपीठ ने गौरव कुमार सिंह की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि यह मंदिर सदियों पुराना है। साथ ही इसके साथ तीर्थयात्रियों की धार्मिक भावनाएं जुड़ी हैं। इसलिए सभी तथ्यों पर गौर करते हुए 22 सितंबर को रिपोर्ट पेश करने कहा गया है।

याचिका में कहा गया है गया कि विष्णुपद मंदिर का प्रबंधन भी तिरुपति बालाजी और वैष्णोदेवी मन्दिर के तर्ज पर सुनिश्चित किया जाए। साथ ही यह भी कहा गया है कि मंदिर एक सार्वजनिक इकाई है। इसलिए इसकी सम्पत्ति का विवरण सार्वजनिक हो।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!