कौन है विक्की जिसपर था 50 हजार इनाम, कैसे हुआ गिरफ्तार

मोकामा दियारा का पचास हजार का इनामी बदमाश विक्की राय गिरफ्तार, जानिए कौन था निशाने पर
मोकामा। बिहार पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने 50 हजार रुपए के इनामी बदमाश विक्की राय को गुरुवार 3 जून को लखीसराय जिले के चानन के धनवाह गांव से गिरफ्तार किया। बेगूसराय के चकिया थानांतर्गत सिमरिया बिंद टोली निवासी संजय राय का बेटा विक्की पिछले कई साल से फरार चल रहा था। उस के खिलाफ मोकामा आरपीएफ में तीन, मरांची थाना में दो सहित बेगूसराय के विभिन्न थानों में 14 से अधिक मामले दर्ज हैं। विक्की की गिरफ्तारी से मोकामा, कसहा, डुमरा, जजीरा दियारा क्षेत्र को बड़ी राहत मिली है। साथ ही रेल पुलिस को भी सुकून मिलेगा क्योंकि मोकामा, बरौनी रेल थानों में विक्की के खिलाफ सर्वाधिक मामला दर्ज है।

पिछले महीने 25 मई को एसटीएफ ने मोकामा के डुमरा दियारा में छापेमारी कर विक्की राय को गिरफ्तार करने की कोशिश की थी। उस दौरान विक्की का दो साथी गिरफ्तार हुआ था जबकि आधा दर्जन हथियार बरामद हुआ था। हालांकि विक्की गोलियां चलाते हुए अपने अन्य साथियों के साथ फरार हो गया था। एसटीएफ को गुप्त सूचना मिली थी कि विक्की लखीसराय के इलाके में छिपा हुआ है। गुरुवार को स्थानीय पुलिस के साथ एसटीएफ ने छापेमारी की और विक्की को गिरफ्तार किया। पुलिस की पूछताछ के बाद उसके पास से एक पॉइन्ट 315 राइफल, एक मस्कट राइफल बरामद किया। पिछले एक सप्ताह के दौरान विक्की और उसके साथियों से हथियारों का बड़ा जखीरा बरामद हो चुका है।

1500 करकट लूटने की थी योजना
सूत्रों के अनुसार विक्की राय पिछले महीने 24- 25 मई को डुमरा दियारा में आधा दर्जन साथियों के साथ जुटा था। बरौनी फर्टीलाइजर में गंगा नदी का पानी ले जाने के लिए चल रही परियोजना के लिए कम्पनी 1500 करकट लाई थी। लाखों रुपए मूल्य के करकट लूटने के लिए विक्की ने योजना बनाई थी लेकिन इसी दौरान एसटीएफ ने छापेमारी कर दी। राजेंद्र सेतु और सिमरिया इलाके में इस समय हजारों करोड़ रुपए की आधा दर्जन परियोजना गतिमान है। विक्की इन परियोजनाओं से लेवी यानी रंगदारी वसूलने के लिए प्रयासरत था। इसी तरह सिमरिया बाजार में भी उसका गिरोह कई अपराध को अंजाम दे चुका है।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!