Train run without guard बिना गार्ड के ही खगड़िया से बेगूसराय तक चली ट्रेन,ढूंढने के लिए चला अभियान।

Train run without guard बिना गार्ड के ही खगड़िया से बेगूसराय तक चली ट्रेन।

बिहार ।पटना ।बेगूसराय ।खगरिया।(Train run without guard) रेलवे प्रशासन की लापरवाही उस समय सामने आई जब पता चला कि बिना गार्ड के ही एक मालगाड़ी खगड़िया से बेगूसराय तक की यात्रा कर चुकी थी। इस गाड़ी में कोई भी गार्ड नहीं था और यह कई स्टेशनों से गुजरती हुई खगड़िया से बेगूसराय तक की यात्रा कर चुकी थी। हर रेलवे स्टेशन और रेलवे फाटक पर प्रोसीड सिग्नल भी दिया गया। मामला शनिवार की रात का है खगड़िया बेगूसराय रेलखंड पर बिना गार्ड के ही एक मालगाड़ी चल पड़ी।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

लाखों स्टेशन पर गार्ड नहीं होने की बात पता चली ।

बिना गार्ड के एक मालगाड़ी खगड़िया से खुल गई परंतु इसकी जानकारी न तो ड्राइवर को हुई और ना ही खगड़िया रेलवे स्टेशन के किसी कर्मचारी को। खगड़िया से खुलकर ट्रेन सभी स्टेशनों से गुजरती रहे मगर किसी को पता तक नहीं चला। लाखों स्टेशन पर जब स्टेशन मास्टर ने प्रोसीड सिग्नल दिखाया और गार्ड के द्वारा प्रोसीड सिग्नल का कोई जवाब नहीं मिला तब जाकर कंही गार्ड नहीं होने की बात सामने आई।(Train run without guard)

ढूंढने के लिए चला अभियान।

बेगूसराय रेलवे स्टेशन पर स्टेशन कर्मचारियों द्वारा इस मालगाड़ी के गार्ड रूम में जब जांच की गई तो वहां गार्ड के सभी सामान उपलब्ध थे लेकिन कोई गार्ड उपस्थित नहीं था। मामला गंभीर देख बेगूसराय स्टेशन के रेल कर्मियों ने यह सूचना कंट्रोल रूम के अलावा जीआरपी और आरपीएफ को भेज दी। जीआरपी और आरपीएफ के संयुक्त प्रयास से गार्ड को ढूंढने का प्रयास किया गया खबर लिखने तक गार्ड का कोई अता पता नहीं चला।(Train run without guard)

कोई बड़ी दुर्घटना भी हो सकती थी।

समय रहते गार्ड नहीं होने की बात सामने आ गई नहीं तो कोई बड़ी दुर्घटना भी हो सकती थी।

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

मोकामा बाजार में उतरे आधुनिक ठग (Fraud), महिलाओं को बनाते हैं शिकार, आज 2 लाख की ठगी।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।