यूँ ही नहीं कोई मैरी कॉम बन जाता।

तस्वीर आज सुबह की टोक्यो ओलम्पिक से आई है, जब सुबह के नाश्ते पर बैठी थी महान खिलाड़ी मैरी कॉम।भोजन की थाली को सामने देखकर संतोष का भाव और ईश्वर के प्रति कृतज्ञता कोई महान आत्मा ही कर सकती है।
मैरी कॉम का सपना ओलंपिक में देश के लिए गोल्ड जितने का है।उन्होंने कहा कि “मैंने सब कुछ जीता है जो जीतने के लिए मैंने कभी सोचा भी नहीं था, लेकिन इस बार मेरा सपना है कि ओलिंपिक स्वर्ण पदक पर कब्जा करूं और इसके लिए अपना सब कुछ झोंकने को तैयार हूं। मेरे हाथ में केवल कड़ी मेहनत है और बाकी सब मैं भगवान पर छोड़ कर ओलिंपिक में अपना बेहतरीन दूंगी।
सपने को शिद्दत से जीने वाली भारत के बेटी महान खिलाड़ी मैरी कॉम को अनंत शुभकामनाएं।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।