बड़े उद्योग पूर्णतः ध्वस्त ,अब बारी छोटे उद्योग के ध्वस्त होने की

बिहार।पटना।मोकामा। मोकामा वायपास अवस्तिथ अंडा फार्म, मत्स्य उद्योग, मुर्गा फार्म,बत्तख फार्म, एलपीजी गैस रिफिलिंग सेंटर, डेयरी फार्म , बोटलिंग प्लांट बंद होने की कगार पर है। मोकामा वायपास के चौड़ीकरण कार्य चल रहा है , सड़क निर्माण में जुड़ी कम्पनी ने जगह जगह वायपास के किनारे गड्ढे को ईंट और मिट्टी से भर दिया है इस वजह से बरसात के पानी का समुचित निकास नहीं हो पा रहा है और ये सभी उद्योग परिसर पूरी तरह से जलममग्न है।उद्योग कार्य आंशिक और कंही कंही पूरी तरह से ठप्प है।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

नकारे और निकम्मे जनप्रतिनिधियों और उनके छुटभैये नेताओं की मनमानी और भरस्टाचार में डूबे अधिकारियों की लापरवाही के चलते मोकामा के सभी सरकारी कल कारखाने सालों पहले बंद हो चुके हैं। चाहे कई राष्ट्रपति पदक जीतने वाला भारत वैगन का रेलवे कारखाना हो , गरोबो का तन ढंकने के लिए धागा बनाने वाला थ्रेड मिल कारखाना, दुनिया की सबसे बेहतरीन जूते बनाने वाली बाटा या हजारों मजदूरों को रोजगार देने वाली मेकडोवेल की शराब कम्पनी सभी कल कारखाने पहले ही बंद हो चुके हैं। मोकामा का गौरवशाली समय समाप्त हो चुका है। यंहा के जनप्रतिनिधि और उनके समर्थक बस अपनी जेबें भरने,अपने नेताओं की जयकार करने,भोज भात खाने ,साथ में फ़ोटो खिंचवाने में यकीन रखते हैं।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

अब मोकामा के ये छोटे छोटे उद्योगों बंद होने के कगार पर हैं। मोकामा वायपास पर कुछलोगों ने हिम्मत दिखाई और उद्योग लगाया। एलपीजी गैस रिफिलिंग सेंटर , अंडा फार्म , डेयरी उद्योग,मत्स्य पालन, बकरी पालन,मुर्गा फार्म,बत्तख पालन,सब्जी फार्म जैसे छोटे छोटे उद्योग यंहा स्थापित हुए हैं। यंहा लगभग 300 लोगों को रोजगार भी मिल रहा है।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

वर्तमान 4 लेन सड़क मार्ग का कार्य प्रगति पर है, सड़क मार्गों का चौड़ीकरण और नवीनीकरण नितांत आवश्यक है। मगर सड़क निर्माण में लगी कम्पनी द्वारा जगह जगह सड़क के किनारे गढ़े को रोड़ी और ईंटों से भर दिया गया है जिस वजह से बरसात का पानी टाल में न जाकर वंही पर जमा होने लगा है। इस वजह से पिछले 2 महीने से यंहा के उद्योग बंद होने की कगार पर हैं। एलपीजी गैस रिफलिंग प्लांट , अंडा फार्म ,डेयरी फार्म,बत्तख फार्म,बोटलिंग प्लांट, मत्स्य उद्योग सहित वायपास पर अवस्तिथ सभी उद्योग या पूरे या आंशिक रूप से डूब चुके है। सभी उद्योग बरसाती पानी के निकास न होने के कारण अपना उत्पादन कम कर चुके हैं ,कई उद्योग पूर्णतः बंद हो चुके हैं।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

ऐसा नहीं है कि सड़कों के किनारे के गड्ढे भर देने से सिर्फ उद्योग को की नुकसान हो रहा है। वायपास किनारे बसे कई मोहहले पूरी तरह से डूबे हुए हैं जिस वजह से स्थानीय लोगों को नारकीय जीवन जीना पड़ रहा है।इंद्रा नगर, भगवानपुर, मोदन गाछी सहित कई मोहहले के लोग बरसाती पानी में रहने को मजबूर हैं।नगर परिषद के अधिकारी कभी कभी किसी किसी मोहहले में पानी निकासी के लिए मोटर पम्प चलवाते हैं उससे थोड़ी राहत तो मिल जाती है मगर यह उपाय ऊंट के मुँह में जीरा के बराबर है।

अगर जल्द ही पानी निकासी का कार्य त्वरित गति से नहीं किया गया तो सभी उद्योगों का बंद होना तय है।

एलपीजी गैस रिफिलिंग प्लांट
भारत सरकार से मान्यता प्राप्त मत्स्य पालन क्षेत्र

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।