महँगे मास्क को कहें न ,घर पर बनायें मास्क,सरकार ने जरी की एडवाइजरी

कोरोना ने एक महामारी का रूप इख्तियार कर लिया है .दुनिया भर में हजारों लोगों ने इस वायरस की चपेट में आकर अपनी जान गवां दी है.भारत में भी लभग 3000 लोग इस महामरी की चपेट में आ चुके हैं.पूरा देश 21 दिनों के लॉक डाउन में चल रहा है .अभी तक इसका कोई वेक्सिन नहीं बना है.इलाज के लिए कोई खास तरह की दवाई भी नहीं बन इ है.इससे बचने का सबसे अच्छा उपाय है इस वायरस से संक्रमित होने से बचा जाय.इसके लिए सरकार ने कुछ दिशा निर्देश भी जारी किया है.सबसे प्रमुख है मास्क लगाना क्योंकि कोरोना के वायरस मुंह और नाक से ही बाहर निकलते हैं और फिर दूसरों को संकर्मित करते हैं. एडवाइजरी में कहा गया है कि घर में बनाए गए मास्क स्वस्थ लोगों में संक्रमण को फैलने से रोकेंगे. ये मास्क हेल्थ वर्कर्स, कोरोना के मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों और खुद मरीजों के लिए नहीं है.

-विज्ञापन-

MBTC,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 9990436770

देश में कोरोनावायरस के मामलों में अचानक तेजी आई है। ऐसे में मास्क की मांग बहुत बढ़ गई है. केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के 11वें दिन शनिवार को एक एडवाइजरी जारी कर लोगों से कपड़े से घर में बनाए हुए फेस कवर (मास्क) पहनने को कहा. एजवाइजरी के मुताबिक, घर में बने मास्क पहनने से बड़े पैमाने पर लोगों को संक्रमण से बचाया जा सकेगा. घर से निकलते वक्त लोग कपड़े से घर में बने मास्क जरूर पहनें. कुछ देशों में इस तरह के मास्क इस्तेमाल से फायदा भी मिला है. देश में अभी तक कोरोनावायरस के संक्रमण के तीन हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं.

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।