अखंड सुहागन रहने लिए महिलाएं कर रहीं सावित्री वट व्रत

पति की लंबी उम्र के लिए रखा जाने वाला सावित्री वट व्रत आज गुरुवार 10 जून को किया जा रहा है। यह व्रत हर वर्ष ज्येष्ठ मास की अमावस्या को रखा जाता है। धार्मिक मान्यता है कि इसी दिन सावित्री ने अपने पति सत्यवान के प्राण वापस लौटाने के लिए यमराज को भी विवश कर दिया था।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

सावित्री वट व्रत के दिन सत्यवान-सावित्री कथा को पढ़ा या सुना जा रहा है।ज्योतिषाचार्य पंडित अरविंद पांडेय के नेतृत्व में हजारों महिलाएं कर रहीं हैं सावित्री वट व्रत पूजा।सकरवार टोला अवस्तिथ डॉ नीरज कुमार के क्लीनिक के पास के वट वृक्ष की काफी मान्यता है। करीब 150 सालों से महिलाएं यंहा सावित्री वट व्रत पूजा करती आ रही हैं।सावित्री वट व्रत पूजा में बरगद के पेड़ की पूजा करने की मान्यता है। हिंदू धर्म में बरगद का वृक्ष सबसे पूजनीय माना जाता है। धर्म ग्रंथो के अनुसार,वट वृक्ष में सभी देवी-देवताओं का निवास होता है।वट वृक्ष की पूजा करने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है,महिलाएं अखण्ड सौभाग्यवती होने के लिए करती हैं सावित्री वट व्रत पूजा। इसी वजह से इस दिन वट वृक्ष की पूजा की जाती है। सावित्री वट व्रत का पारण 11 जून दिन शुक्रवार को किया जाएगा।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।