मोकामा में सड़क अनुसंधान केन्द्र बनेगा

पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि पंचायत प्रतिनिधियों के लिए राज्य के सभी ब्लॉक में भवन बनेगा। दो करोड़ की लागत से बननेवाले इस भवन में पंचायत प्रतिनिध आराम करने के साथ अपना काम भी निपटा सकेंगे। विधान परिषद में शनिवार को पंचायती राज, पथ निर्माण, कला संस्कृति एवं युवा, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण और लघु जल संसाधन विभाग के बजट पर वाद-विवाद के बाद वह सरकार का पक्ष रखते हुए ये बातें कही।

उन्होंने कहा कि मोकामा में 50 करोड़ की लागत से सड़क अनुसंधान केन्द्र बनेगा। सड़कों से जुड़े मामलों पर यहां अनुसंधान का काम होगा। बिहार में सड़क क्षेत्र में हो रहे काम को भी उन्होंने विस्तार से गिनाया। मंत्री ने कहा कि पंचायत सरकार भवन में आरटीपीएस काउंटर खुलेंगे। इससे लोगों को सहूलियत होगी। जहां पंचायत सरकार भवन का निर्माण हो गया वहां जल्द इसे शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि गांव के विकास के लिए सरकार काम कर रही है। अगले पांच वर्षों में 40 हजार करोड़ खर्च किये जाएंगे। इसमें 27 हजार करोड़ 15 वें वित्त आयोग से पांच वर्षों में बिहार को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि पंचायत के प्रत्येक वार्ड में स्ट्रीट लाइट लगाई जाएंगी। 13 लाख एक बार में स्वीकृत करने जा रहे हैं। यह सोलर सिस्टम से चलेगा। लाइट कितने घंटे जली इसके लिए रिमोर्ट मॉनिटरिंग सिस्टम की व्यवस्था होगी। गांवों में सार्वजिनक शौचालय बनाए जाएंगे और सफाईकर्मी भी बहाल करेंगे। मंत्री ने कहा कि जिला परिषद की जमीन को 31 मई 2021 तक चिन्हित कर लिया जाएगा, जरूरत पड़ी तो उसकी घेराबंदी भी कराएंगे।

ब्रिज मेंटेनेंस पॉलिसी लाएगी सरकार

पथ निर्माण विभाग के बजट पर चर्चा के बाद सरकार की ओर से जवाब देते हुए मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि सड़कों की तर्ज पर ब्रिज मेंटेनेंस पॉलिसी लाई जाएगी। कहा कि अगले साल गंगा नदी पर दो लेन नया पुल, मुंगेर घाट पुल, गांधी सेतु का पूर्वी लेन व सुल्तानगंज-अगुवानी घाट पुल को चालू कर लिया जाएगा। बिहार राज्य पुल निर्माण निगम व बिहार राज्य पथ विकास निगम की ओर से फ्रेट कॉरिडोर में चार आरओबी के पहुंच पथ का निर्माण कार्य पूरा किया जाएगा। ये आरओबी इसलामपुर-रफीगंज, गुरारू-रफीगंज, करबंदिया-मुगलसराय और पुसौली-मुथानी के बीच अवस्थित हैं।(सौजन्य -हिंदुस्तान)

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।