RTI एक्टिविस्ट ने सीएम से लगाई गुहार, बदले की भावना से भ्रष्टाचारी कर रहे हमला।

RTI ।बिहार ।पटना।बिहार में बढ़ते भ्रष्टाचार का जीता जागता प्रमाण है बालू माफियाओं के द्वारा खुलेआम अवैध बालू का खनन। इन भ्रष्टाचारियों बालू माफियाओं से लड़ाई के कारण बिहार के एक अधिवक्ता आरटीआई एक्टिविस्ट की जान पर बन आई है। पटना हाईकोर्ट के अधिवक्ता मणि भूषण प्रताप सेंगर बालू माफियाओं से डर गए हैं ।अब वह केंद्र के नरेंद्र मोदी सरकार और बिहार के नीतीश कुमार की सरकार से अपने अपनी जान की सुरक्षा की गुहार लगा रहे हैं।

RTI एक्टिविस्ट ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपने जान की सुरक्षा के लिए गुहार लगाई है ।उन्होंने कहा है कि वह लगातार इन भ्रष्टाचारियों बालू माफियाओं के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। इस वजह से वह इन माफियाओं के निशाने पर हैं और उन्हें जान से मार डालने की धमकी मिल रही है ।RTI एक्टिविस्ट बार-बार सुरक्षा की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार की उदासीनता को लेकर वह बहुत भयभीत हैं।

अपनी जान की सुरक्षा को लेकर वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार , डीजीपी बिहार, बिहार के मुख्य सचिव और गृह सचिव से मांग कर चुके हैं। इन लोगों की ओर से अभी तक RTI एक्टिविस्ट की सुरक्षा को लेकर कोई पहल नहीं की गई है। इन्होंने देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से और गृह मंत्री श्री अमित शाह जी से अपनी सुरक्षा की अपील की है ।उन्होंने अपने जान के ऊपर खतरा देखते हुए उनसे मांग की है ।ज्ञात हो कि 2018 में उन्हें खतरा देखते हुए सरकारी सुरक्षा दी गई थी लेकिन बाद में हटा दी गई मई 2021 से सुरक्षा वापस होने पर अब उनकी जान पर उन्हें खतरा बन गया है।
RTI एक्टिविस्ट द्वारा लगातार बिहार में हो रहे अवैध बालू खनन और खनन माफियाओं के साथ-साथ सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत के खिलाफ कई जनहित याचिका लगाने के साथ-साथ आरटीआई से भी इन लोगों की पोल खोल रहे थे। अब सभी भ्रष्टाचारी एक होकर इनके ऊपर हमला कर रहे हैं इसलिए इन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार और देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से अपनी जान की सुरक्षा के लिए अपील की है।

TI एक्टिविस्ट ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपने जान की सुरक्षा के लिए गुहार लगाई है
RTI एक्टिविस्ट ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपने जान की सुरक्षा के लिए गुहार लगाई है ।उन्होंने कहा है कि वह लगातार इन भ्रष्टाचारियों बालू माफियाओं के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। इस वजह से वह इन माफियाओं के निशाने पर हैं और उन्हें जान से मार डालने की धमकी मिल रही है ।

पूर्व डीजीपी अभयानंद ने भ्रष्टाचार के खिलाफ शुरू की मुहिम।

चील, बाज़ और गिद्ध अब घेरे हैं आकाश । कोयल,मैना, शुकों का पिंजड़ा है अधिवास ।।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।