दूधिया रोशनी से जगमग हुआ शरणार्थियों का शिविर।

बिहार। पटना। मोकामा ।गंगा नदी के बाढ़ से बेघर हुए दियारा वासियों ने मोकामा के मलिया घाट धर्मशाला में शरण ली है। मलिया घाट के धर्मशाला में बिजली की व्यवस्था नहीं थी, ऐसे में शरणार्थियों सहित स्थानीय ग्रामीणों की चिंता थी कि रात में जब धर्मशाला में बिजली नहीं होगी तो यहां पर काफी दिक्कत होगी। स्थानीय ग्रामीणों ने मोकामा नगर परिषद के कार्यपालक महोदय श्री मुकेश कुमार को सूचना दी कि मालिया घाट के धर्मशाला में बिजली की समस्या है, यहां सैकड़ों दियारा वासी बाढ़ के कारण शरण लेने हुए आए हुए हैं। कार्यपालक महोदय ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अधिकारियों को निर्देश की दिया मलिया घाट में शरणार्थियों को रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था की जाए ।
बाढ़ के कारण सांप बिच्छू जैसे कई कीड़े मकोड़े निकलने की संभावना रहती है ऐसे में अंधेरे में रह रहे शरणार्थियों शरणार्थियों की जान पर भी बन सकती है।प्रयाप्त रोशनी के अभाव में जनजीवन इतना आसान नहीं होता उस पर भी छोटे-छोटे बच्चे और जानवर भी इनके साथ हैं।
मलिया घाट के धर्मशाला के पास के सभी खंभों पर स्ट्रीट लाइट लगा दी गई जबकि धर्मशाला के सभी रूम में एलईडी बल्ब लगा दिए गए हैं जिससे पर्याप्त रोशनी कमरे में हो रही है। नगर परिषद के द्वारा लगवाए गए स्ट्रीट लाइट और बल्ब से लोगों का जीवन थोड़ा सा आसान हो जाएगा। सभी शरणार्थियों ने इस नेक काम के लिए नगर परिषद के कार्यपालक महोदय को सहृदय धन्यवाद दिया।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।