अब रोबोट सुलझाएगी जमीनी विवाद।

अब रोबोट सुलझाएगी जमीनी विवाद।

बिहार ।पटना। (Robot measurement land Bihar)जमीन के सर्वे के बाद अब चकबंदी की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। दस्तावेजों को अंतिम रूप देने में जुट चुके हैं अधिकारी गण। सर्वे की जमीन के बाद अधिकारियों के सामने जमीन की सही मांपी एक चुनौती थी। इस चुनौती से निपटने के लिए बिहार सरकार  जमीन माफी के लिए रोबोट की मदद ले रही है।

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

रोबोट की मापी को ही सबसे सही माफी बताया जा रहा है।

टेप और ईसीएस के जरिए की गई जमीन की मापी और रोबोट के जरिए की गई माफी में महज 10 सेंटीमीटर का अंतर पाया गया है। रोबोट की मापी को ही सबसे सही माफी बताया जा रहा है।(Robot measurement land Bihar

रोबोट की मापी सॉफ्टवेयर का नाम चक बिहार दिया गया है।

आईआईटी रुड़की के प्रोफेसर कमल जैन के टीम के सदस्यों ने राजस्व एवं भूमि विभाग बिहार सरकार के लिए एक ऐसा सॉफ्टवेयर विकसित किया है जिसके जो रोबोट की मदद से जमीन की सही-सही माफी कर पाने में सक्षम है। सॉफ्टवेयर का नाम चक बिहार दिया गया है। चक बिहार की मदद से जमीन की सही मापी और नक्शा के नवनिर्माण में न्यूनतम गलतियां होने की संभावना है।(Robot measurement land Bihar)

अब जमीन की मापी की शुद्धता के लिए रोबोट का इस्तेमाल किया जा रहा है।

डॉ कमल जैन की टीम ने सोमवार को घाट कुसुंबा के कुछ गांव का मुआयना किया जहां सर्वे का काम पूरा हो चुका था। इनके टीम के द्वारा शेखपुरा समाहरणालय में चकबंदी की आधुनिक विधि का प्रेजेंटेशन भी दिया गया इस प्रेजेंटेशन में निदेशक भू अभिलेख जय सिंह के अलावा विभाग के अन्य कर्मचारी भी मौजूद।

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

इस आधुनिक तकनीक के इस्तेमाल से दाखिल खारिज का नक्शा तैयार करने में भी बहुत सहूलियत होने वाली है।

शेखपुरा के दूर-दराज के गांव में किए गए सर्वे तकनीकी ब्यौरा लिया जा चुका है और अब जमीन की मापी की शुद्धता के लिए रोबोट का इस्तेमाल किया जा रहा है। डॉ कमल जैन ने बताया कि इस आधुनिक तकनीक के इस्तेमाल से दाखिल खारिज का नक्शा तैयार करने में भी बहुत सहूलियत होने वाली है।

रोबोट के जमीन की मापी से कई जमीनी विवाद भी आसानी से सुलझ जाएंगे।

रोबोट के जमीन की मापी से कई जमीनी विवाद भी आसानी से सुलझ जाएंगे।

सात साथियों के शहादत के बाद भी रामकृष्ण सिंह ने सचिवालय पर झंडा फहराया था।

स्व.पं. साधू शरण शर्मा ,खूब लड़े अंग्रेजो से।

याद किये गये चाकी।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा
Mokama ,मोकामा
Navratri 2021 Mokama

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!