केडिया धर्मशाला को संवारने का काम शुरू, हटाया गया कबाड़

केडिया धर्मशाला को संवारने का काम शुरू, हटाया गया कबाड़

मोकामा। केडिया धर्मशाला को समाजोपयोगी बनाने की दिशा में सार्थक पहल करने धर्मशाला प्रबंधन समिति ने साफ सफाई एवं अतिक्रमण हटाने का काम शुरू किया है। शुक्रवार को मोकामा सीओ एवं थाना इंस्पेक्टर की उपस्थिति में केडिया धर्मशाला परिसर में अज्ञात लोगों द्वारा डंप किए गए कबाड़ को सामाजिक सहयोग से हटाया गया।

धर्मशाला परिसर में बड़े स्तर पर कुछ लोगों द्वारा कबाड़ जमा किया गया था। हाल ही में जब केडिया धर्मशाला को बिहार धार्मिक न्यास बोर्ड के अंतर्गत किया गया तब परिसर में जमा कबाड़ हटाने के लिए कहा गया था। सीओ ने बताया कि किसी भी व्यक्ति ने कबाड़ और अन्य डंप सामग्री पर कोई दावा नहीं किया। अंततः 11 दिसंबर को प्रशासन की उपस्थिति में धर्मशाला में जमा कबाड़ को बाहर निकाला गया।

धर्मशाला के कुछ हिस्सों में निजी लोगों द्वारा ताला जड़ दिया गया था उसे भी तोड़ा गया। इस दौरान मोकामा थाना इंस्पेक्टर राजनंदन, नगर परिषद अध्यक्ष कृष्ण बल्लभ, वार्ड नं 13 के पार्षद मुरारी सहित बड़ी संख्या में स्थानीय लोग उपस्थित थे।

गौरतलब है कि स्वर्गीय विश्वनाथ केडिया परिवार द्वारा निर्मित केडिया धर्मशाला को हाल ही में बिहार सरकार के धार्मिक न्यास परिषद के अंतर्गत लाया गया है। केडिया धर्मशाला मोकामा के मोलदियार टोला वार्ड नंबर 13 महावीर स्थान के पास स्थित है।

केडिया धर्मशाला की नई कार्यकारिणी का गठन किया गया। इसके अध्यक्ष के रूप में अंचलाधिकारी मोकामा को नियुक्त किया गया है जबकि बृजनंदन सिंह को सचिव बनाया गया है। इसके अतिरिक्त भोला केडिया उपाध्यक्ष एवं श्यामली प्रसाद उर्फ पप्पू कोषाध्यक्ष नियुक्त किए गए हैं। अन्य कार्यकारिणी समिति में आनंद कुमार उर्फ मुन्ना बाबू, राम प्रवेश सिंह, विनय मास्टर, राजकुमार राम, भागीरथ सिंह, संपत सिंह शामिल हैं।

केडिया धर्मशाला मोकामा पिछले कई दशकों से मोकामा के विभिन्न सामाजिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों का प्रमुख आयोजन स्थल रहा है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों से केडिया धर्मशाला उचित देखरेख के अभाव में जर्जर हुआ जा रहा था। लेकिन अब इसकी जिम्मेदारी बिहार सरकार के धार्मिक न्यास परिषद के अधीन किया गया। इसी के तहत नई कार्यकारिणी गठित हुई है। अब फिर से विभिन्न सामाजिक कार्यों के लिए केडिया धर्मशाला का उपयोग किया जा सकता है।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।