2022 तक बन जाएगा राजेंद्र सेतु के समानांतर पुल पर पर इस्तेमाल के लिए करना पड़ेगा सालों इंतजार।

बिहार ।पटना। मोकामा। मोकामा में राजेंद्र सेतु के समानांतर पुल का निर्माण तो 2022 तक हो जाएगा परंतु आम लोग तो इसका इस्तेमाल अगले कई सालों तक नहीं कर पाएंगे। कारण जानकर चौंक जाएंगे आप,6 लेन का नया समानन्तर पुल अपने तय समय 2022 तक बन जाने की सम्भवना है। पर इस लेन पर कब तक गाड़ियां दौड़ेगी यह कहना बड़ी मुश्किल है। कहा जा रहा है कि राजेंद्र सेतु के समानांतर पुल तो 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा परंतु इसके दक्षिणी अप्रोच रोड को तीन रेल लाइनों को पार कर गुजरना है और इस अप्रोच रोड को बनाने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है ।

इस परेशानी को सुलझाने का जिम्मा लगभग 3 वर्ष पहले आईआईटी गुवाहाटी को दिया गया था पर वहां से अभी तक कोई सुझाव नहीं मिला है इस वजह से अप्रोच रोड अपने तय समय से बनना मुश्किल है। अप्रोच रोड के बनने में अभी काफी समय लगने वाला है बगैर अप्रोच रोड के मोकामा और बेगूसराय को जोड़ने वाला यह राजेंद्र सेतु के समानांतर पुल पर आवाजाही संभव नहीं है। लगभग ढाई किलोमीटर लम्बा होगा एप्रोच रोड जिसमें तीन रेलवे क्रॉसिंग है।

ओंटा सिमरिया पुल का दक्षिणी हिस्सा औटा से राजेंद्र सेतु तक है जिसमें की अप्रोच रोड में तीन रेलवे लाइन आ रही है और यह मूल योजना का हिस्सा है और यँहा तकनीकी रूप से कई समस्या आ रही है जिसके वजह से अप्रोच रोड के निर्माण में देर होने की संभावना है तथा जब तक एप्रोच रोड बन नहीं जाएगा इसके बगैर फोन का इस्तेमाल असंभव है।तो जब तक आईआईटी गौहाटी की टीम इसका कोई समाधान नहीं देती तो अप्रोच रोड नहीं बन पायेगा।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।