स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर मोकामा के बेटे पंकज पांडे को विरासत सम्मान 2021 से नवाजा गया।

बिहार।पटना। के बेटे पंकज पांडे को स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर गायन कला के उत्कृष्ट योगदान के लिए विरासत सम्मान 2021 से नवाजा गया है।पुराने गीतों को आज भी उतना ही पसन्द किया जाता है जितना कि नए गीतों को।कुछ गीत सदाबहार हो जाते हैं जिसे हमेशा सुनना पसंद किया जाता है।लेकिन आज की नई पीढ़ी पुराने सदाबाहर गीतों के प्रति उदासीन है।इसलिए आज के युवाओं में अपनी इन्ही विरासत के प्रति जागरूकता लाने के लिए रेणुका आर्ट व बिहार हिंदी साहित्य सम्मान द्वारा आयोजित तथा पंजाब नेशनल बैंक,एल आई सी, द्वारा प्रायोजित स्टेट बैंक विरासत सम्मान 2021 सीजन 08 का आयोजन हिंदी साहित्य सम्मेलन के प्रांगण में किया गया।इस कार्यक्रम में बिहार के तीन वरिष्ठ साहित्यकार रंगकर्मी और सात गयक कलाकारों सहित ग्यारह विभूतियों को स्टेट बैंक विरासत सम्मान 2021  ट्राफी तथा सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया गया।कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन रेणुका आर्ट के मुख्य संरक्षक व बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष डॉ अनिल कुमार सुलभ ,पंजाब नेशनल बैंक के जोनल मैनेजर श्री संजय काण्डपाल, एल आई सी डिवीजन 1 के एस डी एम श्री कुलभूषण शर्मा, यूनियन बैंक के रीजनल हेड  श्री अजय वंसल, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एजीएम  श्रीमती वर्ष  एसोसिएशन के अध्यक्ष समायल अहमद,समाजसेवी डॉ सुमन लाल, डॉ दिवाकर तेजस्वी, संस्था के उपाध्यक्ष श्री कृष्ण मोहन मुरारी, सीआरपीएफ कमांडेंट  श्री एन के सिंह व निदेशक  श्री अनूप कुमार द्वारा दीप प्रज्ज्वलित किया गया था।बिहार के जिन कलाकारों व साहित्यकारों को सम्मानित किया गया उनमें डॉ शंकर प्रसाद,श्री मृत्युंजय मिश्र करुणेश,श्री सुनील कुमार दुबे,रवि मिश्रा,गौतम बनर्जी,श्री काजल चक्रवर्ती, श्री पंकज पांडेय,श्री अमरेंद्र कुमार अम्मू,प्रत्युष प्रसून,एम के राजू एवम प्रिया चौहान थे।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।