100 से ज्यादा किसानों को मिला चारा उत्पादन का प्रशिक्षण।

भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी एवं बिहार कृषि विश्वविद्यालय ,सबौर भागलपुर के कृषि वैज्ञानिकों द्वारा गौशालाओं हेतु चारा उत्पादन, संरक्षण एवं उपयोग विषय पर दो दिवसीय ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया। दिनांक 27 एवं 28 जुलाई 2021 को हुए इस प्रशिक्षण शिविर में देश भर के 100 से ज्यादा किसानों ने भाग लिया। इस प्रशिक्षण शिविर के मुख्य अतिथि डॉ अरुण कुमार कुलपति, बिहार कृषि विश्वविद्यालय,सबौर, भागलपुर थे जिन्होंने इस कार्यक्रम की रूप रेखा रखी और विस्तृत चर्चा की। डॉ अरुण कुमार ने कृषि वैज्ञानिकों को कहा कि “बिहार के जलजमाव और सुखार के इलाके व छोटे/बड़े किसानों के हित को ध्यान में रखकर ही प्रशिक्षण को आगे बढ़ाएं।डॉक्टर आर. के. सोहाने,प्रसार शिक्षा निर्देशक, बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर द्वारा प्रशिक्षण का कार्य शुरू किया गया। इस दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर की अध्यक्षता डॉ अमरेश चंद्र, निदेशक भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी द्वारा की गई । पहली बार बिहार कृषि विश्वविद्यालय ,सबौर, भागलपुर और राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय विश्वविद्यालय , समस्तीपुर, पूसा के वैज्ञानिकों के द्वारा तकनीक की जानकारी दी गई।डॉक्टर निलजंय, प्लांट ब्रीडिंग विभाग, राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय विश्वविद्यालय, पूसा, समस्तीपुर बिहार ने किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कम खर्च में अधिक आमदनी को लेकर विस्तार पूर्वक तकनीकी जानकारी दी।उन्होंने किसानोबको निमंत्रण दिया कि गुणवत्ता पूर्ण बीजों के लिए आपलोग हमसे सम्पर्क करें। ।डॉक्टर प्रकाश नारायण द्विवेदी ,प्राचार्य व वैज्ञानिक,भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी के द्वारा विधिवत प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन किया गया। इस प्रशिक्षण शिविर में बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों के किसानों ने भाग लिया। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ,नई दिल्ली के महानिदेशक और केंद्रीय कृषि मंत्री एवं किसान कल्याण मंत्री के निर्देश पर बिहार राज्य पटना जिला के अंतर्गत मोकामा टाल के किसानों के मांग पर पहली बार यह प्रशिक्षण शिविर का आयोजन हुआ है।इस शिविर में भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान, झांसी के निदेशक द्वारा किसानों को पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया गया।100 प्रगतिशील किसानों को ऑनलाइन भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी द्वारा चारा उत्पादन, संरक्षण एवं उपयोग का प्रशिक्षण दिया गया।मोकामा के श्री चंदन कुमार ने इस प्रशिक्षण के लिए कृषि विश्वविद्यालय को कई बार पत्र लिखा था।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

इस शिविर में मनोरंजन कुमार, प्रणव शेखर शाही, कन्हैया जी,प्रियदर्शन शर्मा, अमित कुमार, सुधांशु कुमार, कौशलेंद्र कुमार, प्रदीप कुमार, अजीत कुमार, बब्बन सिंह, शंकर कुमार,चंदन कुमार सहित देश भर के सैकड़ों प्रगतिशील किसानों ने प्रशिक्षण लिया।चंदन कुमार ने बताया कि इस तरह के आयोजन आगे भी होते रहेंगे ताकि किसानों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।