बिहार के बाहर के राहत केंद्रों पर अप्रवासी बिहारियों को मिल रही हैं सुविधायें

पटना 30 मार्च 2020:- लाॅकडाउन के कारण देश के विभिन्न राज्यों में फंसे हुए बिहार के लोगों के लिए बिहार फाउंडेशन के माध्यम से फूड पैकेट, सेनेटाइजर, मास्क एवं अन्य राहत सामग्रियों की सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही हैं। अब तक देश के विभिन्न राज्यों से मिल रही सूचना के मुताबिक कुल 5,015 लोगों को राहत पहुंचाई जा चुकी है, जिसमें से महाराष्ट्र के धारावी राहत केंद्र में 1,200 लोगों को, मुंबई के गोवांडी राहत केंद्र में 600, मुंबई के गोवांडी राहत केंद्र में 200, नवी मुंबई राहत केंद्र में 500, कल्याण राहत केंद्र में 500, नवीं मुम्बई राहत केंद्र में 200, बेलापुर नवी मुंबई राहत केंद्र में 140, पुणे के पिम्परी चिंचवाड राहत केंद्र में 05, पुणे के अंबे गांव राहत केंद्र में 280, पुणे के सिंहगाड राहत केंद्र में 135, हैदराबाद राहत केंद्र में 100, चेन्नई राहत केंद्र में 100, कोलकाता राहत केंद्र में 125, बेंगलुरू राहत केंद्र में 500 और आम बिहारी कल्याण मंच सिक्किम में 300 लोगों को भोजन/राषन देकर राहत पहुंचाई गई है। इन जगहों पर प्रवासी बिहारियों के लिए आवासन एवं चिकित्सकीय सुविधा की भी व्यवस्था की गई है। इसके अलावा बेलापुर नवी मुम्बई, ठाणे, मीरा भयंदर, महाराष्ट्र में अस्थायी राहत षिविर भी बनाया गया है।

-विज्ञापन-

MBTC,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 9990436770

मुख्यमंत्री ने बिहार फाउण्डेषन को निर्देष दिया है कि आवष्यकतानुसार अन्य स्थानों पर भी आपदा राहत केन्द्र स्थापित कर लाॅकडाउन में फॅसे बिहार के लोगों को भोजन, आवासन एवं चिकित्सा की सुविधा उपलब्ध करायी जाय। इसमें व्यय होने वाली राषि का वहन मुख्यमंत्री राहत कोष से किया जायेगा।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।