टाल में 4 साल से जल जमाव के कारण खेती नहीं, पदयात्रा धरना, प्रदर्शन करेंगे किसान।

टाल में 4 साल से जल जमाव के कारण खेती नहीं, पदयात्रा धरना, प्रदर्शन करेंगे किसान।(No farming due to water logging in Tall for 4 yre)

बिहार।पटना।मोकामा।मोकामा का दुर्भाग्य ही कहिए जिसपर बिहार ही नहीं दर्श गौरव करता था आज वँहा के किसान पाई पाई को मोहताज़ हो गए हैं। पिछले 4 सालों से मोकामा टाल के पूर्वी क्षेत्रों के किसान जल जमाव के कारण खेती नहीं कर पा रहे हैं।इस बार भी अभी तक टाल में जल जमाव के कारण किसान खेती से वंचित ही रहेंगे।(No farming due to water logging in Tall for 4 yre)

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

No farming due to water logging in Tall for 4 yre
विज्ञापन

मरांची,डुमरा,हथीदह, औंटा, लखनचंद,टाल क्षेत्र के किसानों की हालत जल जमाव के कारण दिनों दिन खराब होती जा रही है।(Mokama Online)

मोकामा अंचल का पूर्वी भाग मरांची,डुमरा,हथीदह, औंटा, लखनचंद,टाल क्षेत्र के किसानों की हालत जल जमाव के कारण दिनों दिन खराब होती जा रही है।दिनांक 13/11/2022 को इस मुद्दे पर विभागीय पदाधिकारी से हुई बातचीत पर कल 15/11/22 को जल संसाधन विभाग बिहार के जूनियर इंजिनियर ने एक इसी विभाग से जुड़े ब्यक्ति को मरांची टाल मुआईना करने भेजा। अरविन्द कुमार सिंह , कैलाश शर्मा राजाराम कुमार आदि ग्रामीणों के सहयोग से उन्होंने क्षेत्र का मुआयना किया।मुआयना के बाद मरांची उत्तरी पंचायत के सरपंच एवं अन्य लोगों के सामने जे ई को मोबाइल से सूचना दिया गया कि करीब साढे सात हजार बीघा जल जमाव से बुआई बाधित है।(No farming due to water logging in Tall for 4 yre)

No farming due to water logging in Tall for 4 yre
विज्ञापन

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

दिनांक 15/11/2022 को औंटा हथिदह मराँची और डुमरा के किसानों ने प्रो. कैलाश शर्मा के आवास पर बैठक आहूत किया।(Mokama Online)

दिनांक 15/11/2022 को औंटा हथिदह मराँची और डुमरा के किसानों ने प्रो. कैलाश शर्मा के आवास पर बैठक आहूत किया।इस बैठक में किसान हित में आगे के क्रियाकलापों पर विचार और मंथन किया गया ।प्रणव शेखर शाही ने टाल की मूल समस्या को लेकर नवीनतम टेक्नोलॉजी ड्रोन से सर्वेक्षण की बात कही जिससे पानी फँसने के उचित कारण का पता चले और समुचित निदान निकाला जा सके ।(No farming due to water logging in Tall for 4 yre)

अगर किसानों की समस्या का समुचित निदान समय पर ना हुआ तो फिर किसान पदयात्रा और धरना,प्रदर्शन भी करेंगे।(Mokama Online)

किसान इस मुद्दे को माननीय सांसद,जल संसाधन विभाग के मंत्री और जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव के साथ ही साथ पटना डीएम को संज्ञान पत्र सौपेंगे और समस्या के समाधान का आग्रह करेंगे। अगर किसानों की समस्या का समुचित निदान समय पर ना हुआ तो फिर किसान पदयात्रा और धरना,प्रदर्शन भी करेंगे।(No farming due to water logging in Tall for 4 yre)

टाल की स्थिति यह है कि बाहा यानि जलस्रोत जो बनाया गया था उसके दोनों छोड़ पर जमा मिट्टी को रहने दिया गया (Mokama Online)

इस अवसर पर प्रोफेसर कैलाश शर्मा , बौआ सिंह , पप्पू सिंह , युवा नेता राजाराम कुमार सिंह , अरविंद सिंह , प्रणव शेखर शाही आदी किसान मौजूद रहे।ज्ञात हो कि सरकार की ओर से टाल क्षेत्र में फंड मुहैया कराकर कुछ आधा अधूरा काम हुआ लेकिन काम की न तो समीक्षा हुई और न फंड का सदुपियोग, किसान फंड लूट का परिणाम भोग रहे हैं।किसान अब इस मार को सहने की स्थिति में नही हैं।टाल की स्थिति यह है कि बाहा यानि जलस्रोत जो बनाया गया था उसके दोनों छोड़ पर जमा मिट्टी को रहने दिया गया,फलत: जल जमाव की समस्या बनी राह गई।गैस पाईप लाईन और गंगा परियोजना ने भी मिट्टी का टीला रहने दिया ,इस तरह टाल क्षेत्र ठीकेदारों और विभागीय भ्र्ष्टाचार का चारागाह बनकर रह गया है।(No farming due to water logging in Tall for 4 yre)

मोकामा और आस पास के इस तरह के अन्य खबरों को जानने के लिए मोकामा ऑनलाइन डॉट कॉम के अतिरिक्त हमारे सोशल मीडिया प्लेटफार्म फेसबुक ,ट्विटर ,इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर हमे फॉलो करें।

ये भी पढ़ें:-नए थानाध्यक्ष को दिया 50 रुपये घूस कहा हम तो 50 रुपये ही देते हैं साहब।

ये भी पढ़ें:-मोकामा में पदस्थापित क्लर्क को DM ने दी जबरिया रिटायरमेंट की सजा

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!