लिपिक के साथ दलाल गिरफ्तार।

लिपिक के साथ दलाल गिरफ्तार।

बिहार ।लखीसराय।(Nitish Kumar’s fight against corruption) भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश कुमार लगातार आक्रामक बने हुए हैं। रोजाना कहीं ना कहीं किसी न किसी जिले में भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारियों को पकड़ कर जेल भेजा जा रहा है। चाहे वह छोटे हो बड़े हो सभी की संपत्ति की जांच की जा रही है। जगह-जगह सरकारी कार्यालय में विजिलेंस द्वारा बड़े अधिकारियों द्वारा जांच किया जा रहा है और दोषी पाए जाने वाले कर्मचारियों पर गाज गिर रही है।

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

लिपिक को एक अन्य के साथ पैसे लेते हुए गिरफ्तार किया गया है।

इसी क्रम में बिहार के लखीसराय जिले में अभिलेखागार कार्यालय में विशेष छापेमारी की गई जिसमें एक सरकारी लिपिक के साथ एक कथित दलाल को गिरफ्तार किया गया है।जिलाधिकारी संजय कुमार सिंह के निर्देश पर एएसडीएम राकेश कुमार और वरीय उप समाहर्ता प्रेमलता कुमारी की टीम ने संयुक्त रुप से अभिलेखागार कार्यालय में छापेमारी की जिसके बाद लिपिक को एक अन्य के साथ पैसे लेते हुए गिरफ्तार किया गया है।(Nitish Kumar’s fight against corruption)

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

जिलाधिकारी संजय कुमार सिंह को पिछले कई दिनों से लगातार शिकायत मिल रही थी।

जिलाधिकारी संजय कुमार सिंह को पिछले कई दिनों से लगातार शिकायत मिल रही थी कि अभिलेखागार में खतियान की नकल निकालने के लिए लोगों से अवैध वसूली की जा रही है।बिना पैसे दिए किसी को खतियान की नकल नहीं दी जा रही।(Nitish Kumar’s fight against corruption)

खतियान की नकल निकालने के लिए कुल ₹1500 की मांग की गई।

गुरुवार को एसडीएम राकेश कुमार अभिलेखागार पहुंचे और वहां अलग-अलग राज्यों से तीन खतियान की नकल निकालने के लिए आवेदन दे रहे थे तभी उनसे एक एक नकल के लिए ₹500 की मांग की गई। तीनों नकल के लिए उनसे कुल ₹1500 की मांग की गई।उक्त कथित दलाल ने कार्यालय में मौजूद लिपिक अरुण पासवान के कहने पर ही नकल निकालने के नाम पर रुपये लेने की बात कही। इसके बाद एएसडीएम राकेश कुमार ने लिपिक अरुण पासवान और कार्यालय में मौजूद दलाल कामेश्वर यादव को हिरासत में लेकर कबैया थाना के हवाले कर दिया है। वरीय उपसमाहर्ता प्रेमलता कुमारी ने बताया कि अभिलेखागार कार्यालय के लिपिक अरुण पासवान के विरुद्ध कई शिकायत जिलाधिकारी के पास मिली थी।

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश कुमार लगातार आक्रामक बने हुए हैं।

छापेमारी में पहुंचे राकेश कुमार ने बताया कि बहुत दिनों से मिल रही शिकायत के बाद जिलाधिकारी ने एक टीम अभिलेखागार में जांच के लिए भी भेजा था।आज लिपिक अरुण कुमार और कथित दलाल कामेश्वर यादव को खतियान की नकल की एवज में पैसे लेने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है।

सात साथियों के शहादत के बाद भी रामकृष्ण सिंह ने सचिवालय पर झंडा फहराया था।

स्व.पं. साधू शरण शर्मा ,खूब लड़े अंग्रेजो से।

याद किये गये चाकी।

Nitish Kumar's fight against corruption
Nitish Kumar’s fight against corruption

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।