भक्ति भाव से हुआ मोकामा में हनुमान मंदिर जीर्णोद्धार महोत्सव

भक्ति भाव से हुआ मोकामा में हनुमान मंदिर जीर्णोद्धार महोत्सव।

मोकामा।(Mokama Online News 37) माँ गंगा के तट पर पीपरतर मोकामा स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर का जीर्णोद्धार पूजन सोमवार को विधिविधान पूर्वक सम्पन्न हुआ। मंदिर प्रांगण में पुजारियों द्वारा शास्त्रोक विधि से पूजा अर्चना कराई गई। मुख्य यजमान हरे कॄष्ण ने संकल्प पूजा की और जीवन आदि किया।

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

Mokama Online News 37

पीपरतर हनुमान मंदिर श्रद्धालुओं के बीच पंचा आश्रम के रूप में प्रचलित है।

पीपरतर हनुमान मंदिर श्रद्धालुओं के बीच पंचा आश्रम के रूप में प्रचलित है। कई दशक पूर्व हरे कृष्ण के परिवार द्वारा इसका निर्माण कराया गया था।हरे कॄष्ण ने बताया कि मंदिर में समयानुसार जीर्णोद्धार की आवश्यकता थी। इसीलिए उन्होंने जीर्णोद्धार की पहल की और पूर्वजों द्वारा स्थापित मंदिर की व्यवस्थाओं को सुदृढ़ किया। जीर्णोद्धार कार्य में नन्द कुमार सिंह का भी सहयोग रहा।(Mokama Online News 37)

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

Mokama Online News 37
हनुमान मंदिर

जीर्णोद्धार पूजा के अवसर पर दोपहर में सुंदरकांड पाठ किया गया।

जीर्णोद्धार पूजा के अवसर पर दोपहर में सुंदरकांड पाठ किया गया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। जीर्णोद्धार उपरांत मंदिर की शोभा अत्यंत आकर्षक हो गई है। श्रद्धालुओं की मान्यता है कि यहां हनुमानजी की प्रतिमा के दर्शन पूजन से उनकी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।मंगलवार और शनिवार को यंहा श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ लगती है ।मंगलवार को दूर दूर से श्रद्धालु यंहा हनुमान जी का दर्शन करने आते हैं । (Mokama Online News 37)

Mokama Online News 37
हनुमान मंदिर

जीर्णोद्धार के अवसर पर पूरे मंदिर परिसर को झिलमिल रोशनी से सजाया गया।

जीर्णोद्धार के अवसर पर पूरे मंदिर परिसर को झिलमिल रोशनी से सजाया गया। साथ ही श्रद्धालुओं के बीच प्रसाद वितरण हुआ। देर शाम तक भक्तिमय आयोजन चलता रहा।

ये भी पढ़ें:-स्व.पं. साधू शरण शर्मा ,खूब लड़े अंग्रेजो से।

ये भी पढ़ें:-याद किये गये चाकी।

-विज्ञापन-

Mokama Online News 37

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!