पुण्यार्क मंदिर,देश का इकलौता सूर्य मंदिर जो मां गंगा के तट पर है,होती है मनोकामना पूर्ण।

पुण्यार्क मंदिर,देश का इकलौता सूर्य मंदिर जो मां गंगा के तट पर है,होती है मनोकामना पूर्ण।

बिहार।पटना।मोकामा।(Mokama Online News 133)मोकामा से 10 किलोमीटर पश्चिम पंडारक का सूर्य मंदिर है जिसकी महिमा इतनी है कि देश नहीं विदेशों से भी श्रद्धालु भी दर्शन को आते हैं।इस सूर्य मंदिर में छठ करने वालों की भीड़ ही इसकी महिमा का बखान करते हैं। यूं तो इस मंदिर में सालों भर पूजा करने वालों की भीड़ रहती है।मगर कार्तिक के पवित्र महीने में लोग पूरे महीने यंही रुकते हैं और पूजा करते हैं।

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

पुण्यार्क सूर्य मंदिर में छठ पूजा करने वालों की संख्या हर साल बढ़ती जा रही है।

पुण्यार्क सूर्य मंदिर में छठ पूजा करने वालों की संख्या हर साल बढ़ती जा रही है।स्थानीय ग्रामीण बताते हैं कि इस मंदिर का निर्माण भगवान श्रीकृष्ण के पुत्र साम्ब ने करवाया था।(Mokama Online News 133)

-विज्ञापन-

Mokama Online News 133

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

पुण्यार्क सूर्य मंदिर का गर्भ गृह सूर्य के चक्र से ढका हुआ है।

कथा यूं है कि सांब को कुष्ठ का श्राप मिला था जिससे मुक्ति के बाद उन्होंने 12 सूर्य मंदिर का निर्माण करवाया। पंडारक का पुण्यार्क मंदिर भी उन्हीं सूर्य मंदिर में से एक है।पुण्यार्क मंदिर में भगवान सूर्यदेव की मूर्ति है जिसमे साथ घोड़े वाले रथ पर सूर्यदेव सवार हैं। मंदिर का गर्भ गृह सूर्य के चक्र से ढका हुआ है।(Mokama Online News 133)

पुण्यार्क में पूजा मात्र करने भर से शरीर की सभी व्याधियां दूर होती है।

पुण्यार्क में पूजा मात्र करने भर से शरीर की सभी व्याधियां दूर होती है।छठ पूजा के अवसर पर यहां श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ उमड़ती है।हजारों लोग यहां कष्टी देने के लिए देश भर से आते हैं।

छठ पूजा के लिए मंदिर कमेटी द्वारा विशेष व्यवस्था की जाती है।

छठ पूजा के लिए मंदिर कमेटी द्वारा विशेष व्यवस्था की जाती है।श्रद्धालुओं को कोई दिक्कत न हो इसके लिए यहां सभी तरह की व्यवस्था की जाती है।

ये भी पढ़ें:-स्व.पं. साधू शरण शर्मा ,खूब लड़े अंग्रेजो से।

ये भी पढ़ें:-याद किये गये चाकी।

-विज्ञापन-

Mokama Online News 133

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!