Mokama स्टेशन पर होने लगी प्रसव पीड़ा, आरपीएफ जवानों की सूझबूझ से महिला ने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया।

स्टेशन पर होने लगी प्रसव पीड़ा, आरपीएफ जवानों की सूझबूझ से महिला ने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया।

मोकामा ।पटना ।बिहार ।(Mokama Online News 113)कल दिनांक 01/11/2021 को मोकामा रेलवे स्टेशन पर एक दंपति अपनी यात्रा के लिए पहुंचा था। प्लेटफार्म नंबर चार पर अपनी ट्रेन का इंतजार कर रहे महिला को अचानक प्रसव पीड़ा होने लगी और वह दर्द से कराहने लगी। उसके साथ उसके पति थे मगर वह काफी घबरा रहे थे, उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था। किसी ने इसकी सूचना मोकामा आरपीएफ को दी। आरपीएफ के अधिकारियों ने रेल अस्पताल के कर्मियों को रेलवे स्टेशन परिसर में बुलाया ।उसके बाद महिला को मोकामा रेल अस्पताल पहुंचाया गया जहां महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है। फिलहाल जच्चा बच्चा दोनों स्वस्थ है यह नव दंपति शेखपुरा जिले के रहने वाले हैं।

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

रुदल कुमार अपनी पत्नी पिंकी के साथ बंडल जाने के लिए मोकामा रेलवे स्टेशन पर अपनी गाड़ी की प्रतीक्षा कर रहे थे।

बरबीघा के कुशेरी गांव निवासी रुदल कुमार अपनी पत्नी पिंकी के साथ बंडल जाने के लिए मोकामा रेलवे स्टेशन पर अपनी गाड़ी की प्रतीक्षा कर रहे थे। अचानक पिंकी को प्रसव पीड़ा शुरू हुई तो किसी ने इसकी सूचना आरपीएफ इंस्पेक्टर हरिकेश मीणा को दी।उन्होंने तत्परता दिखाते हुए रेल अस्पताल के कर्मियों को मोकामा रेलवे स्टेशन पर बुलाया अस्पताल कर्मियों द्वारा महिला को रेल अस्पताल में सुरक्षित प्रसव करवाया गया।(Mokama Online News 113)

-विज्ञापन-

Mokama Online News 111

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

रेलवे परिसर पर उपस्थित अन्य यात्रियों ने आरपीएफ की इस सहृदयता की तारीफ की।

रेलवे परिसर पर उपस्थित अन्य यात्रियों ने आरपीएफ की इस सहृदयता की तारीफ की। आर पी एफ इंस्पेक्टर हरिकेश मीणा ने मानवता की एक मिसाल कायम की है ।महिला के पति रुदल कुमार ने बताया ऋषिकेश मीणा के के नाम पर वह अपनी बिटिया का नाम मीना रखेंगे।

ये भी पढ़ें:-स्व.पं. साधू शरण शर्मा ,खूब लड़े अंग्रेजो से।

ये भी पढ़ें:-याद किये गये चाकी।

-विज्ञापन-

Mokama Online News 113

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!