मरीज नहीं यहां एम्बुलेंस हो रहा है पंचायत चुनाव का प्रचार

मरीज नहीं यहां एम्बुलेंस हो रहा है पंचायत चुनाव का प्रचार।

लखीसराय।(Mokama Online News 101) कहते हैं कि हर पीली चीज सोना नहीं है, वैसे ही ध्यान रखें हर नीली बत्ती लगी गाड़ी एम्बुलेंस नहीं है। हो सकता है आप जिसे एम्बुलेंस समझ रहे हैं उसके लाउडस्पीकर से अचानक आप सुनें- ‘सबका इज्जत सबका मान, नहीं रुकेगा किसी का काम यही है नीलम देवी की पहचान।’

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

पंचायत समिति सदस्य हेतु बरगद छाप चुनाव चिन्ह पर वोट डालने की अपील की जा रही है।

आप मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन (एम्बुलेंस) योजना, बिहार का स्टीकर लगा देखकर उसे एम्बुलेंस समझें लेकिन अचानक उस लगे असंख्य स्टीकर में मतदातों से ग्राम पंचायत अमराहा से पंचायत समिति सदस्य हेतु बरगद छाप चुनाव चिन्ह पर वोट डालने की अपील की जा रही हो।(Mokama Online News 101)

-विज्ञापन-

Mokama Online News 101

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

एम्बुलेंस गाड़ी से हो रहे चुनाव प्रचार का यह मामला लखीसराय जिले के अमराहा पंचायत से जुड़ा है।

एम्बुलेंस गाड़ी से हो रहे चुनाव प्रचार का यह मामला लखीसराय जिले के अमराहा पंचायत से जुड़ा। यहां नीलम देवी नामक प्रत्याशी पंचायत समिति का चुनाव लड़ रही है। उनके परिवार ने कुछ महीने पहले मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन (एम्बुलेंस) योजना, बिहार के अंतर्गत एम्बुलेंस लिया था। हालांकि अब पंचायत चुनाव में उसी एम्बुलेंस को चुनाव प्रचार में लगा दिया गया है। बाकायदा नीलम देवी और रवि कुमार चंद्रवंशी के नाम से उसी गाड़ी से वोट डालने की अपील की जा रही है।(Mokama Online News 101)

स्थानीय लोगों में इसे लेकर खासी नाराजगी है।

स्थानीय लोगों में इसे लेकर खासी नाराजगी है। उनका कहना है कि हम सब आज तक यही जानते हैं कि यह एम्बुलेंस है जिसे राजू कुमार चंद्रवंशी द्वारा चलाया जाता है। अब अचानक चुनाव में इसे प्रचार वाहन बना दिया गया है।

चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। नाम न उजागर करने की शर्त पर ग्राम पंचायत के लोग चुनाव आयोग से एम्बुलेंस को प्रचार वाहन के तौर पर उपयोग कर रहे उम्मीदवार और एम्बुलेंस मालिक के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं।

शहीद ऋषि के पिता राजीव रंजन सिंह मूलतः लखीसराय के रहने वाले हैं पिछले कई सालों ये मकान बना कर बेगूसराय में रह रहे हैं।ऋषि की शहादत से बेगूसराय,लखीसराय में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है।

ये भी पढ़ें:-याद किये गये चाकी।

-विज्ञापन-

Mokama Online News 101

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!