मोकामा को डुबो न दे गंगा इसलिए बंद हुआ नालों का मुंह।

मोकामा। रौद्र रूप ले चुकी गंगा का अब शहरी क्षेत्रों और आवासीय इलाकों को डुबोने लगी है। पटना जिले के कई इलाके डूब चुके हैं और खतरा मोकामा पर भी मंडराने लगा है। मोकामा में गंगा का पानी पिछले सारे रिकॉर्ड को तोड़कर किनारों से काफी आगे बढ़ चुका है। अगर अगले कुछ दिन यही हालात रहे तो कई आवासीय इलाकों में पानी भरने का खतरा बना हुआ है।

मोकामा नगर परिषद ने इसी खतरे को देखते हुए गंगा से लगे सभी प्रमुख नालों का मुंह बंद करना शुरू किया है। शनिवार को मोकामा थाना चौक, मोलदियार टोला आदि के पास नालों का मुंह रेत से भरी बोरियों से बंद किया गया। इसका मकसद गंगा नदी के पानी को उल्टी दिशा में शहर में प्रवेश करने से रोकना है।

मोकामा नगर परिषद चैयरमैन कृष्ण बल्लभ कुमार उर्फ टुन्ना सिंह, पार्षद मुरारी कुमार, रामबली सिंह आदि की उपस्थिति में नालों का मुंह अस्थायी तौर पर बंद किया गया। इस बार गंगा के बढ़ते जलस्तर ने पिछले सारे रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। इसी कारण मोकामा तपस्वी स्थान घाट, पीपर तर घाट, कमलेश्वर स्थान घाट, महादेव स्थान घाट, सूर्य नारायण घाट, भूतनाथ घाट आदि में गंगा का पानी आवासीय इलाकों के पास पहुंचा हुआ है। अगर नालों का मुंह खुला रहा तो गंगा का पानी शहर की ओर तेजी से फैल सकता है। इसलिए नालों को बंद किया गया है।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।