क्या मानव तस्करों ने मोकामा से दिनदहाड़े अगवा की दो बच्चियां

क्या मानव तस्करों ने मोकामा से दिनदहाड़े अगवा की दो बच्चियां

मोकामा। मोकामा के पचमहला ओपी अंतर्गत पचमहला गांव की दो बच्चियां रविवार दोपहर लापता हो गई थी जिन्हें करीब 8 घँटे बाद भागलपुर में जीआरपी ने बरामद किया। अब एक सवाल सबके जेहन में है कि क्या बच्चियों को मानव तस्करों ने उठाया था। बच्चियों के साथ मौजूद तीन अज्ञात लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

पचमहला ओपी के थानाध्यक्ष नीरज कुमार ने बताया कि दोपहर करीब साढ़े तीन बजे 15 साल की एक बच्ची अपनी 6 साल की ममेरी बहन के साथ घर से निकली थी। वह बड़हिया की ओर बढ़ी और बीच रास्ते से लापता हो गई। 15 साल की बच्ची का गांव सालिमपुर थानांतर्गत बाहापुर है और वह अपने ननिहाल आई थी। पचमहला में घरवालों को शाम में एक अज्ञात फोन आया जिसके बाद उन्हें दोनों बच्चियों के गायब होने की सूचना मिली। फोन नम्बर ट्रेस करने पर वह जहानाबाद के किसी रंजीत कुमार का था।

बच्ची की छानबीन के लिए नीरज कुमार के नेतृत्व में जांच अभियान शुरू हुआ। आसपास के सभी जिलों की पुलिस को अलर्ट किया है। इस बीच रात 11 बजे भागलपुर जीआरपी की ओर से पचमहला ओपी को दो बच्चियों के बरामद होने की सूचना दी गई।

मानव तस्करी का संदेह
बच्चियों ने फोन पर अपने परिजनों को बताया कि दोनों को बहला फुसलाकर कुछ लोगों ने पहले बड़हिया में कार पर बैठाया। बाद में वे लोग क्यूल में ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस में सवार हुए। इस बीच जब बच्चियां रोने लगी और टीटी की नजर पड़ी तब जीआरपी ने दोनों को कब्जे में लिया। घरवालों को मानव तस्करी गिरोह पर संदेह है लेकिन पुलिस फिलहाल कुछ कहने से बच रही है।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।