सूरज निकलते ही बुझा चिराग

नई दिल्ली|बिहार|पटना|बिहार के सियासी गलियारे में भूचाल आ चूका है.लोजपा टूट चुकी है.अपने आप को लोजपा का राजकुमार साबित करने की चक्कर में लोजपा को ले डूबे चिराग पासवान.पूर्व मंत्री रामविलास पासवान के निधन को अभी साल भर भी नहीं हुआ कि लोजपा बिखर गई.लोजपा के के छह में से पांच सांसदों पशुपति पारस, प्रिंस पासवान, वीणा सिंह, चंदन कुमार और महबूब अली कैसर ने लोकसभा अध्यक्ष ॐ बिड़ला को पत्र लिखकर सदन में अलग गुट के रूप में मान्यता देने का अनुरोध किया है.तकनीक के जानकार बताते हैं की उन्हें आसानी से मान्यता भी मिल जाएगी क्योकि बहुमत उनके पास है.

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

जमुई सांसद चिराग पासवान के एक तरफे फैसले से नज़र चल रहे  पशुपति कुमार पारस और लोजपा के पूर्व सांसद सूरजभान सिंह ने कल रविवार को लोजपा के सभी सांसदों की मीटिंग दिल्ली में रखी थी .शाम तक पूरा परिदृश्य बदल चूका था.वैशाली सांसद वीणा सिंह, खगडिय़ा सांसद महबूब अली कैसर, प्रिंस राज पहले से ही दिल्ली में मौजूद थे जबकि नवादा सांसद चन्दन कुमार को दिल्ली बुलाया गया.मीटिंग में सभी से बातचीत के बाद सभी ने पशुपति कुमार पारस को अपना नेता चुन लिया और लोकसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर सदन में अलग गुट के रूप में मान्यता देने का आवेदन किया

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।