विधायक अनंत सिंह के घर से एके-47 बरामदगी मामले में आईपीएस लिपि सिंह ने दी गवाही

पटना। मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत कुमार सिंह के पैतृक आवास से एके-47 और हैंड ग्रेनेड की बरामदगी मामले में भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी लिपि सिंह ने गवाही दी है। राजद विधायक अनंत कुमार सिंह से जुड़े इस मामले की सुनवाई एमपी एमएलए कोर्ट में जारी है।
17 अगस्त 2019 को बाढ़ थाना क्षेत्र के नदवा गांव स्थित विधायक के पैतृक आवास से एक के 47 राइफल, 26 गोलियां और 2 हैंड ग्रेनेड बरामद हुए थे। मामले की प्राथमिकी बाढ़ थाना में दर्ज हुई थी। विधायक ने पटना उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर इस मामले में जमानत मांगी थी लेकिन उच्च न्यायालय से जमानत अर्जी खारिज होने के बाद पटना सिविल कोर्ट में मामले की नियमित सुनवाई हो रही है। उच्च न्यायालय ने मामले को नियमित सुनवाई पर रखते हुए नौ महीने में सुनवाई पूरी करने का निर्देश दिया था। उसी निर्देश के आलोक में पटना के एमपी/एमएलए कोर्ट में मामले का ट्रायल चल रहा है।

आईपीएस लिपि सिंह इस केस की अनुसंधानकर्ता थी। उन्होंने एमपी एमएलए कोर्ट में गवाही में अनुसंधान की बात रखी। विधायक अनंत सिंह के घर से एके-47 और हैंड ग्रेनेड बरामदगी को लेकर प्राथमिकी यूएपीए की धाराओं के तहत दर्ज की गई थी। यूएपीए एक्ट के अनुसार यदि कोई मामला यूएपीए की धाराओं के तहत दर्ज किया जाता है तो उस मामले का अनुसंधान अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी स्तर के पदाधिकारी ही कर सकते हैं। इसलिए तत्कालीन बाढ़ सहायक पुलिस अधीक्षक को केस का आईओ बनाया गया था. गवाही के दौरान पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने अनुसंधान में सामने आई तथ्यात्मक बातों को न्यायालय के सामने रखा। मामले की अगली सुनवाई 22 दिसंबर को होगी। सरकारी अभियोजक ने केस की अनुसंधानकर्ता लिपि सिंह से पहले सवाल किए। इसके बाद अनंत सिंह के बचाव पक्ष के वकीलों द्वारा भी क्रॉस एग्जामिनेशन किया गया।

इस मामले में अभियोजन पक्ष कई गवाहों की गवाही करवा चुका है। बाढ़ थानाध्यक्ष संजीत कुमार सिंह, मोकामा थानाध्यक्ष राजनंदन, हाथीदह थानाध्यक्ष रवि रंजन, एनटीपीसी थानाध्यक्ष अमरदीप, पंडारक थानाध्यक्ष रमन प्रकाश वशिष्ठ, पटना पुलिस लाइन के तत्कालीन लाइन डीएसपी आशीष कुमार सिंह की गवाही हो चुकी है। सूत्रों के अनुसार सभी गवाहों ने प्राथमिकी का पूर्ण समर्थन किया है।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।