राजेन्द्र सेतु पर बालू लदे अवैध वाहन चालक का पैसा कौन कौन खाता है ?

बिहार|पटना|मोकामा का राजेन्द्र सेतु बालू के अवैध कारोबारियों का स्वर्ग बन गया है .हर रोज यंहा से सेकड़ो पिकअप चालक दर्जनों बार राजेन्द्र सेतु पर बालू की अवैध ढुलाई करते हैं, तेज़ और .मनमाने तरीके से पिकअप चलाते हैं ताकि जायदा से जायदा फेरी लगा सकें.इसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ता है .पिछले 1 साल में दर्जनों को कुचल चुके हैं पिकअप चालक.कई घरों को उजारने करने के बाद भी इनका अवैध बालू ढुलाई निरंतर जारी है .पुलिस प्रशासन यंहा बिलकुल बौनी साबित हुई है . कुछ महीने पहले बाढ़ ए.एस.पी अम्बरीश राहुल ने कड़ी कार्यवाही करते हुए 100 से जयादा पिकअप वैन को जब्त किया था करीब 3 दर्जन पिकअप चालक को पकड़ कर जेल भी भेजा था.मगर आज सेकड़ो पिकअप फिर से बालू की अवैध ढुलाई कर रहे हैं जिसके मनमाने तरीके से चलने के वजह से रोजाना दुर्घटना हो रहा है.

कल राजेन्द्र सेतु पर गाड़ी का टायर बदल रहे उप चालक 35 वर्षीय अरविन्द निषाद को एक बालू लादे पिकअप वैन ने कुचल दिया जिससे उसकी मौत हो गई.घटना के बाद पिकअप चालक वंहा से फरार हो गया. मृतक अरविन्द निषाद मोकामा के कसहा दियारा का निवासी था .घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने सडक को जाम कर दिया .इस वजह से लगभग 4 घंटे तक यातायात व्यवस्था वाधित रही .ग्रामीण मृतक के आश्रितों को मुआवजे की मांग पर अड़े थे .ग्रामीणों ने अवैध बालू की ढुलाई रोकने की मांग की .पुलिस ने किसी तरह ग्रामीणों को समझा बुझा कर शव को पोस्ट मार्टम के लिए भेजा तब जाकर यातायात व्यवस्था सुचारू रूप से चालू हो पाई .ग्रामीणों का कहना है कि पिकअप चालक जयादा कमाई करने की होड़ में तेज़ पिकअप चलाते हैं जिस वजह से यंहा लगातार दुर्घटना होते रहती है .इसी वजह से आज भी अरविन्द की जान गई .ग्रामीणों ने आरोप लगाया की राजेन्द्र सेतु से बालू की ढुलाई पर रोक लगी है केवल निजी वाहनों के परिचालन की अनुमति है लेकिन अवैध बालू ढूलाई का कारोबार निरंतर जारी है.ग्रामीणों का कहना है की प्रशासन को अवैध बालू ढुलाई के बारे में सब पता है .अवैध बालू ढूलाई के कारोबारी आखिर किस किस को पैसा पहुचाते है जिस वजह से इन लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है.दबी जुबान में ग्रामीण कहते हैं की नेता मंत्री सबका हिस्सा है और सबको बराबर मिलता है.जनता तो मरने के लिए ही पैदा हुई है मरेगी, नेता जी की जेब भरी होनी चाहिए.

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।