fraud in mokama अंतर जिला ठगों के निशाने पर मोकामा,पुलिस के सामने नई चुनौती।

अंतर जिला ठगों के निशाने पर मोकामा

बिहार। पटना ।मोकामा। (fraud in mokama)मोकामा कि पुलिस प्रशासन व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने में मोकामा के वर्तमान थाना प्रभारी राजनंदन ने कोई कसर नहीं छोड़ रखी। इसका परिणाम है कि मोकामा के जितने भी स्थानीय चोर उचक्के ,शराब माफिया हैं सभी आज कारागृह में बंद है। मोकामा में कुछ महीने पहले अचानक से रुपए छीनने की घटना बढ़ गई थी। महिलाएं ,बुजुर्ग जैसे ही बैंक से अपने पैसे निकालते और बाहर निकलते कोई मोटरसाइकिल सवार या चार पांच लोग इकट्ठे होकर उनके पैसे झपटने में कामयाब हो जाते । एक दो महीने में ही दर्जनों ऐसे केस सामने आए थे कि बैंक से पैसे निकालते ही उच्चकों ने उनके पैसे छीन लिए। थाना प्रभारी राजनंदन के नेतृत्व में सिलसिलेवार तरीके से इन उचक्कों को मोकामा और आसपास के क्षेत्रों से गिरफ्तार कर लिया गया। इनकी गिरफ्तारी पर यह बात सामने आई इनमें से ज्यादातर लोग मोकामा के थे ही नहीं। बरौनी ,लखीसराय, बाढ़, मुंगेर जैसे अन्य क्षेत्रों से आकर यह लोग मोकामा के बुजुर्गों और महिलाओं को अपना निशाना बनाते थे। सरकारी और गैर सरकारी बैंकों के सामने खड़े होकर रेकी करते थे और बुजुर्गों, महिलाओं से झपट्टा मारकर पैसे छीन लेते थे।

-विज्ञापन-

Mokama ,मोकामा

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

पुलिस के सामने नई चुनौती

अब मोकामा में एक अलग ही तरह का ठगी का मामला सामने आ रहा है। अब यह अपराधी पूरी तरह से पढ़े लिखे और सज्जन दिखाई देते हैं। यह भी महिलाओं और बुजुर्गों को ही निशाना बनाते हैं। राह चलते किसी भी बुजुर्ग और महिलाओं को बाबू जी प्रणाम ,माता जी प्रणाम कह कर रोक लेते हैं। उन्हें सुख दुख की बातें समझा कर कहते हैं कि हम हरिद्वार से आए हैं।आपके परिजनों पर कुछ संकट है कह कर उनसे हरिद्वार में पूजा के लिए ₹2 का कपूर और ₹2 की अगरबत्ती मांगते हैं। लोगों को यह बिल्कुल मामूली रकम लगती है और वह उनके झांसे में फंस जाते हैं। इसके बाद यह ठग उनसे आंख बंद कर मां दुर्गा की आराधना को कहते हैं। लोग आंख बंद करते हैं तो ये ठग उनके सभी रुपए और जेवरात लेकर चंपत हो जाते हैं।(fraud in mokama)

स्थानीय भाषा का प्रयोग करते हैं

प्रशासन को ऐसे ठगों को चिन्हित करना बहुत मुश्किल है क्योंकि यह लोग बिल्कुल किसी शरीफ की तरह व्यवहार करते है। इनका पहनावा बिल्कुल अधिकारियों की तरह होता है। ये एकदम आमलोगों की तरह दिखते है।इनके कई साथी शुद्ध हिंदी तो कई स्थानीय भाषा का प्रयोग करते हैं। अब मोकामा पुलिस प्रशासन के लिए यह चुनौती है कि ऐसे ठगों को जल्द से जल्द बेनकाब करें और उन्हें कालकोठरी में भेजें।(fraud in mokama)

fraud in mokama
fraud in mokama,अंतर जिला ठगों के निशाने पर मोकामा,पुलिस के सामने नई चुनौती

मोकामा बाजार में उतरे आधुनिक ठग (Fraud), महिलाओं को बनाते हैं शिकार, आज 2 लाख की ठगी।

शादी के 18 साल बाद बीपीएससी सफल होने वाली संगीता कुमारी की प्रेरणास्पद कहानी

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।