दिलीप कुमार टुनटुन को भाजपा किसान मोर्चा कार्यसमिति में मिली जगह

भाजपा बिहार में अपने आपको मजबूत करने के लिए संगठन में कर्मठ कार्यकर्ताओं को जगह दे रही है। केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार हो चुका है। पार्टी नेतृत्व ने कुछ लोगों को मंत्रिमंडल में जगह दिया जबकि कुछ को संगठन में पार्टी को मज़बूत करने के लिए वापस भेजा है।
मोकामा हाथीदह के रहने वाले दिलीप कुमार टुनटुन जी को भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा कार्यसमिति में जगह दिया गया है।उनके मनोनयन पर मोकामा और प्रदेश के अन्य भाजपा नेताओं ने बधाई दी है।हाथीदह के ग्रामीण भी टुनटुन जी की इस उपलब्धि पर खुश है।


भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा कार्यसमिति में जगह मिलने पर टुनटुन जी काफी खुश थे उन्होंने मोकामा ऑनलाइन को बताया की” मोकामा एक कृषि प्रधान जगह है यंहा के 70 % लोग खेती पर आश्रित हैं। मैं अपने शीर्ष नेतृत्व से मोकामा के किसानों के हित के लिए सभी बातों को को रखूंगा।भारतीय जनता पार्टी किसानों के हित पर विचार एवं उनके समस्याओं को हल करने काम करते आ रही है। किसान योजना के तहत किसानों के खाते में सीधे राशि भेजने का काम नरेंद्र मोदी सरकार कर रही है। वहीं किसानों को बीज एवं फसल मुफ्त में कैसे मिले इस पर भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता चितन करने में लगे रहते हैं।मोकामा टाल के किसानों के हित को ध्यान रखते हुए नए तरीके से काम किया जाएगा।”

ज्ञात हो कि टुनटुन जी पूर्वी मोकामा भाजपा के एक कर्मठ कार्यकर्ता है। इन्होंने समय समय अपने सामाजिक कार्यों से भाजपा शीर्ष नेतृत्व का ध्यान अपनी ओर खींचा है। इन्होंने वर्ष 2020 के चुनाव के समय जल सत्याग्रह किया था जिसमे उन्होंने मांग की थी कि एनडीए में किसी आपराधिक छवि वाले को टिकट न दिया जाय। उनकी इस माँग पर शीर्ष नेतृत्व ने मुहर लगा दी और मोकामा विधानसभा से साफ छवि वाले श्री राजीव लोचन जी को अपना उम्मीदवार बनाया। जब विधानसभा का चुनाव शुरू हो गया तो टुनटुन जी जोरशोर से एनडीए प्रत्याशी राजीव लोचन जी के पक्ष में प्रचार करने लगे ।मृदुल स्वभाव के टुनटुन जी का पूर्वी मोकामा में बहुत पकड़ है इसलिए पूर्वी भाग में एनडीए मजबूत हो रही थी ।तभी चुनाव के महज 15 दिन पहले टुनटुन जी के पिता का देहांत हो गया और टुनटुन जी अपने पिता के श्राद्ध कर्म में जुट गए इस वजह से वो अपना वक्त चुनाव में नहीं दे पाए और उसके वजह से एनडीए प्रत्याशी पूर्वी मोकामा में पिछड़ गई।

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।