स्व. रघुवंश प्रसाद सिंह के शोक संतप्त परिजनों से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

स्व. रघुवंश प्रसाद सिंह के शोक संतप्त परिजनों से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पटना, 25 सितम्बर 2020:- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार आज पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व0 रघुवंश प्रसाद सिंह के वैशाली के पानापुर स्थित पैतृक गांव में आयोजित एकादशा कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने स्व0 रघुवंश प्रसाद सिंह के तैलचित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिजनों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि रघुवंश बाबू के निधन से हम सब दुखी हंै। रघुवंश बाबू की देश की राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वे युवा अवस्था से ही समाजवाद से जुड़े हुए थे। जननायक कर्पूरी ठाकुर के नेतृत्व में उन्हें काम करने का मौका मिला था। हम सबों का रघुवंश बाबू के प्रति आदर का भाव रहा है। रघुवंश बाबू का सबके साथ अच्छा संबंध रहा। वे अपने विचारों को दृढ़तापूर्वक रखते थे। विधायक, विधान पार्षद, सांसद और केंद्रीय मंत्री के रुप में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले वे कोरोना से पीड़ित हुए थे, बाद में स्वस्थ हो गये थे लेकिन अचानक उनकी तबियत बिगड़ गई और इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गयी। यह हम सबके लिए बहुत बड़ी क्षति है। वे किसी भी पार्टी से रहे लेकिन उनका विचार अपने क्षेत्र, राज्य और देश के लिए महत्वपूर्ण रहा है। उन्होंने कहा कि स्व0 रघुवंश बाबू ने बीमारी के दौरान जो पत्र लिखा था, इसके संबंध में प्रधानमंत्री जी ने भी चर्चा की थी। प्रधानमंत्री जी ने भी उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा था कि रघुवंश बाबू के पत्र में लिखी बातों को हम सब मिलकर पूरा करेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि रघुवंश बाबू के पत्र के संबंध में बिहार सरकार की तरफ से तत्काल कार्रवाई करते हुए केंद्र सरकार को पत्र लिखा गया है और जल संसाधन विभाग को कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। पत्र में वैशाली और मनरेगा से संबंधित बातें केंद्र सरकार के दायरे में हैं, जिसके संबंध में हम लोगों ने पत्र लिखा है। मनरेगा के कार्य को खेती के कार्य से जोड़ने के संबंध में भी बातें कही गयी हंै, इससे .षि कार्य में फायदा होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जब मैं केंद्र की अटल जी की सरकार में रेल मंत्री था तो हाजीपुर-सुगौली रेललाइन के विस्तार के संबंध में कहा था। हमारे आग्रह पर रघुवंश बाबू ने भी अपनी बातें रखी थीं। हमलोग वैशाली के लिए जो कुछ भी संभव है उसे कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि रघुवंश बाबू के विचारों को नई पीढ़ी को बताना चाहिये ताकि वे उनसे सीख ले सकें। एक प्रोफेसर के रुप में उन्होंने अपनी सेवाएं दी हैं। हम उनके प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। उनके परिजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करते हैं। हम उनके साथ हैं और जो भी हमसे संभंव होगा, हम सहयोग करते रहेंगे।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री विजय कुमार चैधरी, विधान पार्षद श्री देवेश चंद्र ठाकुर सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने भी रघुवंश बाबू के चित्र पर पुष्प अर्पित कर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।
’’’’’’

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।