बड़ी दुर्गा मां के दरबार में खोईछा भरने से पूरी होती है हर मन्नत।

बड़ी दुर्गा मां के दरबार में खोईछा भरने से पूरी होती है हर मन्नत।

बिहार ।पटना। मोकामा ।(Badi Durga Sthan Mokama) मोकामा के वार्ड नंबर 16 स्थित बड़ी दुर्गा स्थान का एक बहुत ही पौराणिक महत्व है ।मान्यता है कि नवरात्रि के दिन मां के पट खुलने के बाद यहां खोईछा भरने से हर मन्नत पूरी होती है।

मोकामा ऑनलाइन की वाटस ऐप ग्रुप से जुड़िये और खबरें सीधे अपने मोबाइल फ़ोन में पढ़िए ।

यहां दूर-दूर से श्रद्धालु मां के दरबार में खोईछा भरने आते हैं।

नवरात्र में षष्ठी, सप्तमी,अष्टमी और नवमी के दिन यहां दूर-दूर से श्रद्धालु मां के दरबार में खोईछा भरने आते हैं। बड़ी दुर्गा मां के दरबार में सच्चे मन से मांगी गई हर मन्नत अवश्य पूरी होती है । यहां प्रतिवर्ष खोईछा भरने वालों की संख्या बढ़ती ही जा रही है । बड़ी दुर्गा स्थान पूजा समिति नवरात्रि में श्रद्धालुओं के खोईछा भरने में मदद के लिए दर्जनों कार्यकर्ताओं को लगाती है ताकि श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी न हो।(Badi Durga Sthan Mokama)

मां के दरबार में सच्चे मन से मन्नत मांगते हैं और मां उसे जरूर पूरा करती है।

बड़ी दुर्गा माता के दर्शन के लिए प्रतिवर्ष मोकामा से दूर-दूर के लोग भी नवरात्रि के अवसर पर सपरिवार यहां आते हैं। मां के दरबार में सच्चे मन से मन्नत मांगते हैं और मां उसे जरूर पूरा करती है।

मोकामा ऑनलाइन के इन्स्टाग्राम पर हमसे जुड़िये ।

हर वर्ष यहां दुर्गा मां की प्रतिमा बनाई जाती है।

ज्ञात हो कि यहां माता की कोई स्थाई प्रतिमा नहीं है बल्कि हर वर्ष यहां दुर्गा मां की प्रतिमा बनाई जाती है। लगभग डेढ़ सौ सालो का इतिहास है बड़ी दुर्गा स्थान का।(Badi Durga Sthan Mokama)

दर्जनभर कार्यकर्ताओं को अलग से मंडप में लगाया जाता है ताकि महिला श्रद्धालुओं को कोई परेशानी ना हो।

बड़ी दुर्गा स्थान पूजा समिति के सदस्य संजीव कुमार बड़े जी बताते हैं कि नवरात्रि में यहां माता का दर्शन के लिए आसपास के कई जिलों से भी लोग आते हैं। मोकामा के जो लोग बाहर रहते हैं वह भी दशहरे में मां के दर्शन के लिए जरूर आते हैं। यहां नवरात्रि में खोईछा भर कर मन्नतें मांगने एवं मन्नते पूरी होने पर खोईछा भरने के लिए प्रति वर्ष 4 दिनों तक महिलाओं के बड़ी भीड़ लगती है। प्रतिवर्ष हजारों महिलाएं बड़ी दुर्गा मां को खोईछा समर्पित करती है इसके लिए दर्जनभर कार्यकर्ताओं को अलग से मंडप में लगाया जाता है ताकि महिला श्रद्धालुओं को कोई परेशानी ना हो।

सात साथियों के शहादत के बाद भी रामकृष्ण सिंह ने सचिवालय पर झंडा फहराया था।

स्व.पं. साधू शरण शर्मा ,खूब लड़े अंग्रेजो से।

याद किये गये चाकी।

-विज्ञापन-

Badi Durga Sthan Mokama
Mokama ,मोकामा
Badi Durga Sthan Mokama

विज्ञापन के लिए संपर्क करें : 79821 24182

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।

error: Content is protected !!