पुण्यतिथि पर याद किये गए अटल जी।

बिहार।पटना।मोकामा। पूर्व प्रधनमंत्री स्व अटल बिहारी वाजपेई जी की पुण्यतिथि मोकामा के श्याम मार्केट में मनाई गई।पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्य तिथि पर उनके चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए।इस अवसर मोकामा के पूर्व नगर अध्यक्ष नीलेश कुमार माधव  ने पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी जी को श्रद्धांजली देते हुए कहा कि वे भारत के ही नहीं बल्कि विश्व के एक महान नेता थे। अटल जी का मोकामा से विशेष लगाव रहा था। घोसवरी प्रभारी श्री वैकुंठ झा ने कहा कि अटल जी का पूरा जीवन निर्धनों व वंचितों की सेवा के लिए समर्पित रहा। वे देश के पहले विदेश मंत्री थे जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिंदी में भाषण दिया। पोखरण में सफलतापूर्वक परमाणु परीक्षण कराकर पूरी दुनिया में भारत की अटल मजबूती का संदेश दिया।डॉ सुधांशु शेखर ने कवि अटल जी के बारे में विस्तार से अपनी बात रखी। उन्होंने अटल जी के पोखरण परमाणु विस्फोट से अपनी बात की शुरुआत की।उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ कारगिल युद्ध में अटल जी के दृढ़ नेतृत्व में भारतीय सेना ने अद्वितीय पराक्रम का परिचय देते हुए पाकिस्तानी घुसपैठियों का पूरी तरह से सफाया कर दिया। उनके कार्यकाल में अनेक महत्वपूर्ण आर्थिक व संरचनात्मक सुधार किए गए। स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना एवं प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत गांवों शहरों को सड़कों से जोड़ा गया, जिसके कारण भारत में आर्थिक विकास को एक नई गति मिली। मोकामा टाल जब टकसाल बनेगा तो बिहार के ही नहीं पूरे देश के किसानों की आर्थिक व्यवस्था सुदृढ़ होगी देश की आर्थिक व्यवस्था मजबूत होगी । शिक्षक मिथिलेश कुमार जी ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी ने देश को शिखर पर ले जाने के लिए इतनी दृढ़ता के साथ फैसले लिए उनके बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता।    

कार्यक्रम की शुरुआत श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेई जी की चित्र पर पुष्प अर्पित कर की गई ,कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री सुभाष डालमिया जी और मिथिलेश कुमार जी ने संयुक्त रूप से किया जबकि संचालन डॉ सुधांशु शेखर जी ने किया।भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर दीप जलाकर व पुष्प अर्पित कर अटल जी को श्रद्धांजलि दिया। व्यापार संघ क के श्री ललन प्रसाद सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पोखरन में परमाणु परीक्षण कर विश्व के दूसरे देशों के सामने भारत का लोहा मनवाया था। उन्होंने हमेशा हिंदी को प्रमुखता दी व देश को सर्वोपरि माना।इसअवसर पर निलेश कुमार माधव, डॉ सुधांशु शेखर ,बैकुंठ नारायण झा, शिवकुमार, सुभाष डालमिया, मनीष कुमार शिक्षक ,मिथिलेश कुमार शिक्षक, रंजीत कुमार शिक्षक, रवि स्वर्णकार, निर्मल, शंकर शाही, राजेश कुमार, सुनील प्रसाद सिंह, उमाशंकर, हरिशंकर शाही, जय राम सहित कई भाजपा कार्यकर्ता एवं सामाजिक कार्यकर्ता शिक्षाविद उपस्थित रहे

टिप्पणियाँ बंद हो जाती हैं, लेकिन Trackbacks और Pingbacks खुले हैं।