यह देश है वीर जवानों का

मोकामा घाट सीआरपीएफ ग्रुप केंद्र में 485 जवानों का पासिंग आउट परेड आयोजित कर जवानों को कर्तव्य निष्ठा की शपथ दिलाई गई। मौके पर आयोजित आकर्षक परेड की सलामी आईजी मानवेंद्र सिंह भाटिया ने ली। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के बिहार सेक्टर आईजी श्री भाटिया ने कहा कि देश की आंतरिक सुरक्षा को बनाए रखने की जिम्मेदारी सीआरपीएफ की है और सीआरपीएफ जवान देश के लिए सर्वस्व समर्पित करने को हमेशा तैयार हैं। उन्होंने कहा कि नक्सलवाद, उग्रवाद और आतंकवाद प्रभावित इलाकों में सीआरपीएफ जवान पराक्रम का परिचय दे रहे हैं। देश की एकता, अखंडता और सुरक्षा को चुनौती देने वाली विघटनकारी शक्तियों से मुकाबला करने में सीआरपीएफ पूरी तरह सक्षम है।

आईजी ने जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि 44 सप्ताह के प्रशिक्षण उपरांत अभी भी बहुत कुछ सीखना बाकी है तथा उनकी तैनाती स्थल पर नित नए अनुभव मिलेंगे। इससे पहले आईजी की अगवानी डीआईजी गोपाल लाल मीणा ने की। डीआईजी ने कहा कि यह पहला अवसर है कि सभी प्रशिक्षु एक ही राज्य के हैं। डीआईजी ने बताया कि जवानों को सभी अत्याधुनिक हथियारों एके-47, इंसास, रॉकेट लॉन्चर, यूबीजीएल, ग्रेनेड लॉन्चर, मोर्टार आदि चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है। मौके पर रेंज डीआईजी नीरज कुमार, डीआईजी एचएस मल्ल, डीआईजी डीएस राठौर, डीआईजी डॉ. अरुण कुमार, कमांडेंट अनिल मिंज आदि मौजूद थे। प्रशिक्षण के दौरान उत्कृष्ट भूमिका के लिए जवानों को पुरस्कृत भी किया गया। ऑल राउंड बेस्ट ट्रॉफी का पुरस्कार सिपाही सतीश कुमार को मिला। बेस्ट इनडोर प्रिंस रंजन कुमार जबकि बेस्ट आउटडोर के लिए सिपाही सौरभ कुमार पुरस्कृत हुए। ड्रिल में दीपक कुमार, हथियार चलाने में अयोध्या जी गुप्ता, फिजिकल में राघवेंद्र कुमार, स्पोर्ट्समैन में सुमन शांडिल्य, फायरिंग में चिंटू कुमार के अलावा इंस्ट्रक्टर सुदामा गौड़ को भी पुरस्कृत किया गया।
(सौजन्य द सहारा न्यूज ब्यूरोमोकामा)