मोकामा
समाचार

फ़रिश्ता बन बचाया अधेड़ को

Spread the love

वो कहते है न जिसका कोई नहीं उसका तो खुदा है यारों,पर समाज में कुछ लोग हैं जो खुदा तो नहीं पर अपने नेक कार्य से इंसानियत को बचाए हुए हैं.कल की घटना है मोकामा थाना के पास एक अधेड़ विहोशी की हालत में गिरे पड़े थे .लोग देख कर भी अनदेखा कर दे रहे थे .अचेत अवस्थ में वो अधेड़ किसी को आवाज़ देने के काबिल भी नहीं थे .मोकामा नगर परिषद के एक कर्मचारी कन्हैया जी ने उस अधेर को देखा ओ मन पसीज गया तो उन्होंने विक्रांत आर्य को फ़ोन कर बताया की एक आदमी गिरा पड़ा है अगर संभव हो तो देख लीजियेगा.विक्रांत और उनसे मित्र पिंटू तुरंत वंहा पहुच गये .बेहोशी की हालत में ही उस आदमी को उठा कर अस्पताल ले गये जन्हा उसका नर्स तारा कुमारी के द्वारा इलाज किया गया .इन दोनों युवकों ने ही अपने जेब से दवाई के पैसे दिए .कुछ घंटे बाद उस वक्ति को होश आया पर वो फिर भी अपना पता नहीं बता प् रहे थे सिर्फ कह रहे थे की वो बिहार शरीफ तेतराम के हैं .दोनों युवकों ने इसकी सुचना मोकामा थाना प्रभारी केसर आलम को दिया जिन्होंने आश्वासन दिया की जल्द ही इनके परिवार को ढूँढ लिया जायेगा.थोरी देर में ही केसर आलम ने पता लगा लिया की ये मानपुर थाना पावापुरी के पास के रहने बाले हैं और इनका नाम विनोद कुमार हैं और ये दो दिनों से लापता थे.4-5 घंटे में ही उसके परिवार वाले मोकामा आ गए और विनोद जी अपने अप्रिवार के साथ अपने गावं चले गये.मोकामा थाना प्रभरी केसर आलम ने विरांत और पिंटू को इस नेक कार्य के लिए बधाई दिया.