मोकामा
समाचार

रेल पुलिस और स्थानीय पुलिस मिलकर रोकेगी अपराध

Spread the love

राजेंद्र पुल और रामपुर डुमरा के बीच रेल तथा रेल यात्रियों की सुरक्षा के लिए जीआरपी ने स्थानीय थानों के साथ कार्रवाई करने की रणनीति बनाई है। पटना पूर्वी के रेल डीएसपी भगवान गुप्ता ने हाथीदह जीआरपी में रेल थानाध्यक्षों और स्थानीय थानाध्यक्षों के साथ बैठक कर संयुक्त कार्रवाई की रणनीति बनाई। ट्रेनों में अपराध नियंत्रण को लेकर बुधवार को एसआरपी पटना अशोक कुमार सिंह के निर्देश पर रेल पुलिस पोस्ट हाथीदह में संयुक्त बैठक की गई।बैठक रेल डीएसपी पटना भगवान प्रसाद गुप्ता के नेतृत्व में हुई।जिसमे जीआरपी पुलिस के अलावे आरपीएफ एवं स्थानीय थाने की पुलिस भी शामिल थी।बैठक का मुख्य उद्देश्य राजेन्द्र पुल से गुजरने वाली ट्रेनों की सेफ्टी को लेकर था।आये दिन रामपुर डुमरा जंक्शन के पास ट्रेन लुटेरे सक्रिय हो गए है।बता दे कि राजेन्द्र पुल से होकर उत्तर बिहार जाने वाली ट्रेन मेन लाइन के रामपुर डुमरा जंक्शन से कट होकर पुल के पटरी पर चढ़ती है।मेन लाइन से पटरी बदलने के दौरान ट्रेन की गति धीमी हो जाती है।जिसका फायदा उठाकर अपराधी घटना का अंजाम देते है।हाल ही में लूटपाट के दौरान अपराधियों ने रामपुर डुमरा में यात्री की गला काटकर हत्या कर दी।वही एक यात्री को रात के अंधेरे में ट्रेन से उतारकर बंधक बनाकर परिजन से रुपये मंगाने की बात किया।

बैठक में रेल डीएसपी भगवान प्रसाद गुप्ता के साथ मोकामा जीआरपी इंस्पेक्टर सुनील कुमार,बख्तियारपुर जीआरपी इंस्पेक्टर रंजीत कुमार सिंह,मोकामा रेल थाना अध्यक्ष कमलेश कुमार सिंह, हाथीदह रेल थाना प्रभारी जफरुल्ला खान,आरपीएफ मोकामा के एसआई अरविंद राम इसके अलावे स्थानीय थाना के हाथीदह सर्किल इंस्पेक्टर आलोक कुमार, हाथीदह थाना प्रभारी अविनाश कुमार,मराँची थाना प्रभारी राजीव पटेल, पचमहला ओपी प्रभारी सुभाष कुमार एवं मोकामा थाने के एसआई सुबोध कुमार ने हिस्सा लिया।रेल डीएसपी भगवान प्रसाद गुप्ता ने बताया कि रेलवे के इस इलाके में हो रहे संगठित अपराध मसलन ट्रेन लूट और यात्रियों से छीन-झपट एवं अवैध रूप से शराब ,गांजा,अफीम एवं अन्य मादक पदार्थों की तस्करी की रोकथाम के लिए प्रभावशाली समन्वय स्थापित करने के दृष्टिकोण से इस बैठक का आयोजन किया गया। रेल डीएसपी ने सीमावर्ती थाने सहित सम्बन्धित सभी थानों को बेहतर तालमेल एवं संबंध स्थापित करने पर जोर दिया। जिससे अपराध पर नियंत्रण पाया जा सके।