मोकामा में कृष्ण जन्माष्टमी की धूम, मंजय कश्यप ने दी संगीतमय बधाई

मोकामा में कृष्ण जन्माष्टमी की धूम

0

मोकामा में कृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही धूम धाम से मनाई जा रही है.मन्दिरों को बड़े ही भव्य तरीके से सजाया गया है.श्री कृष्ण के आगमन की सारी तैयारी कर ली गई हैं.ज्यादातर महिलाओं ने आज निर्जला व्रत रखा है .24 तक ये लोग पानी तक नहीं पियेंगे.डॉ मंजय कश्यप इंडिया ने एक सुन्दर गीत गाकर कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामना दी.भगवान श्रीकृष्ण का जन्म अत्यंत कठिनाई में मातुल कंस की जेल में हुआ. पिता वसुदेव ने उफनती यमुना को पार कर रात्रि में ही उन्हें वृंदावन में यशोदा-नन्द के घर छोड़ा.यशोदानंदन को खोजने और मारने कंस ने कई राक्षस-राक्षनियों को वृंदावन भेजा. नन्हे बालगोपाल ने स्वयं को इनसे बचाया. इंद्र के प्रकोप और घनघोर बारिश से वृंदावनवासियों को बचाने गोवर्धन पर्वत उठाया. मनमोहन ने गोपिकाओं से माखन लूटा. गायें चराईं. मित्र मंडली के साथ खेल खेल में कालियादह का मानमर्दन किया. बृजधामलली राधा और अन्य गोपियों के साथ रास किया. कंस वध किया.
बालमित्र सुदामा से द्वारकाधीश होकर भी दोस्ती को अविस्मृत रखा. द्रोपदी का चीरहरण निष्प्रभावी किया. धर्मपालक पांडवों की हर परिस्थिति में रक्षा की. अर्जुन को कुरुक्षेत्र में गीता का उपदेश दिया.श्री कृष्णा के जीवन से लोग हिम्मत नहीं हरने की प्रेरणा लेते है .कितनी भी बुरी परिस्तिथि हो जो लोग कृष्णा की तरह हार नहीं मानते .सुनिए मंजय कश्यप का गीत.

Leave A Reply