Spread the love

मां ने कहा, बेटा देश के काम आया रणवीर की शहादत से प्रेरणा लें : नीरज प्रतिमा का अनवरण

मोकामा (एसएनएबी)। मातृभूमि की सेवा करने का मौका तो कई सपूतों को मिलता है पर कर्त्तव्य के दौरान वीरगति को प्राप्त बहुत कम लोग होते हैं क्योंकि मातृभूमि किस्मत वालों को ही शहीद कहलाने का मौका देती है। ये बातें वाइस एडमिरल दिनेश प्रभाकर ने लेफ्टिनेंट कमांडर शहीद रणवीर रंजन के प्रतिमा अनावरण समारोह को संबोधित करते हुए कहीं। विधान पाषर्द नीरज कुमार ने कहा कि महज 30 साल की उम्र में रणवीर ने मातृभूमि के लिए अपने प्राणों को न्योछावर कर दिया। रक्षा अनुसंधान विकास संगठन के मुख्य कार्यकारी अजय सिंह और डीआरडीओ के मुख्य अभियंता विजीत चौबे ने कहा कि रणवीर रंजन ने कर्त्तव्य के दौरान अपने प्राणों की आहुति देकर इलाके का मान बढ़ाया है। आज वे उस मिट्टी और मां को नमन करने आये हैं जिसकी गोद में खेलकर रणवीर बड़ा हुए। अनावरण समारोह की अध्यक्षता शहीद के पिता राजनीति सिंह ने की तथा संचालन आयुध निर्माण, नालंदा के गजेन्द्र सिंह ने किया। जिला परिषद् सदस्य मुकेश कुमार ने कहा कि रामपुर डुमरा की मिट्टी आज धन्य हो गई। इससे पहले शहीद स्मारक का उद्घाटन शहीद की मां किरण राज ने फीता काटकर किया तथा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच प्रतिमा का अनावरण वाइस एडमिरल दिनेश प्रभाकर ने किया। इस मौके पर शहीद की पत्नी लेफ्टिनेंट कमांडर कुमकुम उनियाल, डीआरडीओ के सहायक मुख्य अभियंता भूपेन्द्र किशोर सिंह, डीआरडीओ के प्रोजेक्ट मैनेजर ब्रजेश कुमार, डीआरडीओ के विजय अलबेला, पूर्व सांसद सूरजभान सिंह, सूर्यनारायण सिंह, मुखिया संजय कुमार, जद (यू) नेता पवन कुमार, लोजपा नेता ललन सिंह, दीपक सिंह मरांची, निरंजन सिंह, नरसिंह सिंह सहितअन्य मौजूद लोग थे। स्मृति : लेफ्टिनेंट कमांडर रणवीर रंजन की याद में बने शहीद स्मारक के पास जमा लोग।

(Rastiy Sahara 27-12-12)

किस्मत वालों को मिलती है शहादत : वाइस एडमिरल!

Leave a Reply