+91 999436770

Home » कृषि » टाल के किसानों ने रुकवाई पईन की उड़ाही

टाल के किसानों ने रुकवाई पईन की उड़ाही

किसानों ने कहा कि पईन की जमीन को छोड़कर खेतों की जमीन में किया जा रहा गड्‌ढा मोकामा . Tony Brown Jersey पईनकी उड़ाही के नाम पर किसानों की कृषियोग्य निजी जमीन को बिना सहमति खोदे जाने के विरोध में किसानों ने बवाल काटा तथा जेसीबी और पोकलेन मशीनों को वापस लौटा दिया। कई गांवों के दर्जनों किसानों ने कार्यस्थल पर उड़ाही कार्य को सिर्फ रुकवाया बल्कि किसानों के खेतों से काटी गई मिट्टी को वापस खेतों में डलवाया। मरांची के किसान अरविंद सिंह और अजय सिंह ने बताया कि टाल की नदियों की वास्तविक और प्राकृतिक धारावाली जगह को छोड़कर किसानों की रैयती जमीन में जेसीबी और पोकलेन लगाकर मिट्टी काटी जा रही है। काटी गई मिट्टी को भी वहीं छोड़ दिया गया है। किसानों ने बताया कि मिट्टी काट कर बिना ढालनुमा बनाए मिट्टी को वही छोड़ दिया जा रहा है जिससे किसानों को लाभ के बदले नुकसान पहुंचेगा। पईन के पास मिट्टी का ढेर जमा होने से खेत का पानी तो पईन में जाएगा और ही पईन का पानी खेतों में पाएगा।

ठेकेदार कर रहे मनमानी, ROSHE TWO रैयती जमीन खोद रहे मरांची टाल के किसानों ने भी उड़ाही के तौर तरीकों पर ऐतराज जताया है। मरांची टाल के किसान अरविंद सिंह, asics kayano uomo ओमप्रकाश सिंह ने बताया कि मरांची में भी कई किसानों की रैयती जमीन पर भी मिट्टी काटने के लिए निशान लगाया गया है। मरांची उत्तरी पंचायत के मुखिया रामकुमार सिंह की भी निजी जमीन पर निशान लगाया गया है। मरांची के किसानों ने बताया कि लखनचंद औंटा टाल के बाद मरांची टाल में भी रैयती जमीन को कटवाया जाता। किसानों ने बताया कि उड़ाही के बाद मिट्टी का निस्तारण नहीं होने से उड़ाही का लक्ष्य पूरा नहीं होगा और दलहनी फसलों की खेती के दौरान कृषि यंत्रों तथा वाहनों के आवागमन में भी समस्या उत्पन्न होगी। गौरतलब है कि मोकामा टाल में राज्य सरकार का जल संसाधन विभाग पईन और नदियों की उड़ाही करा रहा है। उड़ाही का तरीका सही नहीं है लखनचंद टाल के किसान मानिक सिंह, Asics Gel Kinsei 6 Femme गोपाल, Doudoune Canada Goose Pas Cher राजकिशोर सिंह,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *