सम्या-गढ़ – एक परिचय

मेरा गॉंव सम्या -गढ़

सम्या-गढ़ मोकामा एक परिचय ,सम्या-गढ़ बिहार राज्य अंतर्गत पटना जिले की घोसवरी प्रखंड का एक आदर्श ग्राम है

कहा जाता की मोकामा से सटे शिवनार ग्राम से कुछ लोगों ने खेती के उद्देश्य से इस टाल क्षेत्र में बस गए जो कालांतर में सम्या-गढ़ मोकामा के नाम से जाना जाने लगा | सम्या-गढ़ ग्राम मोकामा से 5 किलोमीटर दक्षिण,एन एच -82 , मोकामा -सरमेरा पथ से होते हुए पैजना घाट तक पुनः पश्चिम दिशा में प्रधान मंत्री ग्रामीण सड़क योजना द्धारा अर्धनिर्मित सड़क होते हुए पैजना, मालपुर ,केवटी ग्राम के बाद सम्या -गढ़ अवस्थित है |सम्या -गढ़ पंचायत में मुख्य रूप से केवटी, मिल्की ,लक्षमिपुर,शोभाठिका एवं सम्या -गढ़ ग्रामों को शामिल किया गया है | मोकामा से सम्या -गढ़ की दूरी लगभग 12 किलोमीटर है |यहाँ दो प्राथमिक ,एक मध्य एवं एक उच्च विद्यालय है | यहाँ एक पोस्ट ऑफिस के आलावे एक सरकारी हॉस्पिटल भी है |बर्ष १९८० के दशक में यहाँ पंजाब नॅशनल बैंक की एक शाखा भी खोली गई | सम्या-गढ़ मोकामा को आधुनिक स्वरूप प्रदान करने में श्री चंद्रमौली बाबु उर्फ़ श्री सरयुग नन्दन प्रसाद सिंह एकाकी योगदान माना जाता है | सरस्वती उपासक श्री चंद्रमौली बाबु को एक बार मोकामा विधान सभा का प्रतिनिधित्व करने का भी गौरव प्राप्त है |एतिहासिक रामनंदन उच्च विद्यालय   सम्या-गढ़ मोकामा  की स्थापना बाबु स्वर्गीय  श्री रामनंदन  प्रसाद सिंह के स्मृति में नन्दन परिवार के द्धारा  किया गया पुरे इलाके में इस  विद्यालय का शिक्षा के क्षेत्र में अद्धितीय योगदान है |सम्या -गढ़ ग्राम मोकामा से 5 किलोमीटर दक्षिण,एन एच -82 मोकामा -सरमेरा पथ से होते हुए पैजना घाट से पुनः पश्चिम दिशा में प्रधान मंत्री ग्रामीण सड़क योजना द्धारा अर्धनिर्मित सड़क होते हुए पैजना, मालपुर ,केवटी ग्राम के बाद सम्या -गढ़ अवस्थित है |सम्या -गढ़ पंचायत में मुख्य रूप से केवटी, मिल्की ,लक्षमिपुर,शोभाठिका एवं सम्या -गढ़ ग्रामों को सामिल किया गया है

सम्या-गढ़ मोकामा
सम्या-गढ़ मोकामा

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.