मोकामा
संपादकीय

राजेंद्र सेतु अनदेखी तस्वीर

Spread the love

आजाद भारत का सबसे बड़ा चुनौती था मोकामा का राजेंद्र सेतु ब्रिज का निर्माण.बिहार के प्रथंम मुख्यमंत्री श्री कृष्ण सिंह जी हर हाल में इस ब्रिज का निर्माण करवाना चाहते थे. अपने जिद के कारन उन्होंने पंडित नेहरु से इसका शिलान्यास भी करवा लिया ,धन भी जुटा लिया .विश्वेश्वरैया ने पुल का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर दिया.वो प्रतिदिन मोकामा से राजेंद्र ब्रिज तक सायकिल से जाते थे .ये सायकिल उन्हें मोकामा के ही स्थानीय लोगों से मिला था.विश्वेश्वरैया दिन भर राजेंद्र सेतु के लिए काम करते और रात को पुनह आराम के लिए मोकामा में ही रुकते थे.राजेंद्र सेतु अपनी  मजबूती के कारण पूरे विश्व में जाना जाता है। इसे बनाने में जितना हाथ बिहार के पहले मुख्यमंत्री श्री कृष्ण सिंह,भारत के पहले प्रधानमंत्री पण्डित जवाहरलाल नेहरू,भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद और इंजीनियर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का है उतना ही योगदान उन मजदूरों का भी था ,स्थानीय लोगो का भी था जिन्होंने हर सम्भव सेतु निर्माण में मदद किया था। आइये देखते है राजेन्द्र सेतु के निर्माण की कुछ अनदेखी तस्वीर ।सभी अनदेखी तस्वीर के लिए विडिओ देखिये .