मोकामा
धारित्रीसमाचार

बेटियां बाज़ी मारेगी

Spread the love

कबड्डी और कुश्ती को ताकत का खेल माना जाता है और ज्यादातर लड़के ही इस खेल का हिस्सा बनती है मगर बीते कुछ सालों में मोकामा की  बेटियों ने इस खले में अपना झंडा लहराया है देखने वालों की आँखे खुली रह गई .स्मिता ,कोमल,नीतू ,शमा सबने कबड्डी में मोकामा का नाम रौशन किया .अब मोकामा की की बेटियां कुश्ती में अपना ताकत दिखाने को तैयार है.जमके मेहनत कर रही है ,खुसती के सारे दाव पेंच सीख रही है ताकि कुछ कर दिखा सके .महिला कुश्ती खिलाड़ियों के प्रशिक्षक धीरज सिंह चौहानकहती है की  मोकामा प्रखंड की तीन महिला पहलवान राज्य स्तरीय जूनियर मुकाबलों में अपना दमखम दिखा चुकी हैं,और उनका जलवा देश देख चूका है.राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित दंगल में शामिल होने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रही  हैं. इनमें औंटा गांव की रहने वाली दो सगी बहनें 17 वर्षीया निशा कुमारी व 14 वर्षीया अंजली कुमारी और मोरारपुर गांव की 19 वर्षीया नूतन कुमारी शामिल हैं.

पंडारक से 3 बेटियां  रेशमी, वंदना और उजाला भी खूब मेहनत कर रही है और उम्म्मीद किया जा सकता .ये सब कुश्ती  में मोकामा का नाम जरुर रौशन करेगी .बेटियां बाज़ी मार रही है.
इसे भी पढ़िए