मोकामा-बख्तियारपुर बंद

फिल्म पद्मावत के सिनेमाघरों में लगने से पहले ही बाढ़ अनुमंडल की विभिन्न जगहों पर अलग-अलग संगठनों ने अलग-अलग समय पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया गया, जिससे लगभग 7 घंटों तक बाढ़-मोकामा सड़क जाम रहा. सबसे पहले सुबह भुवनेश्वरी चौक पर सुबह 6 बजे से बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने जाम कर प्रदर्शन किया, जिससे करीब दो घंटे तक बाढ़-बख्तियारपुर और बाढ़-मोकामा सड़क मार्ग पूरी तरह से बंद रहा. जब वे 8 बजे सड़क से हटे तो कुछ देर बाद ही करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने भी एकजुट होकर शहर के सवेरा मोड़ के पास जाम लगा दिया. कार्यकर्ताओं ने लगभग पांच घंटों तक बाढ़-मोकामा और बाढ़-बख्तियारपुर सड़क मार्ग को पूरी तरह से बाधित कर दिया. पांच घंंटों में तीन बार पुुलिस समझाने आई लेकिन कार्यकर्ताओं ने साढ़े 12 बजे उनकी बात मानी व लगभग एक बजे जाम समाप्त हुआ. वहीं पंडारक प्रखंड के कोंदी गांव के समीप हिंदू समाज के दर्जनों लोगों ने 1 बजे से 2 बजे तक फिल्म का विरोध करते हुए सड़क पर टायर जला आगजनी की, जिससे सरमेरा-सहरी-बाढ़ पथ घंटों प्रभावित हो गया. अथमलगोला प्रखंड में भी फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला दहन किया गया.