+91 999436770

Home » कृषि » मरांची की सैकड़ों बीघा जमीन अब भी दलदल

मरांची की सैकड़ों बीघा जमीन अब भी दलदल

दलहनी फसलों की खेती से वंचित रह गये कई किसान दलदल के कारण नहीं हो पा रही है बोआई मोकामा : टाल क्षेत्र में जलजमाव और देर से जलनिकासी के कारण मोकामा के मरांची टाल के कई किसान दलहनी फसलों की खेती से वंचित रह गये. Penn State Nittany Lions Jerseys Jason Pierre-Paul Timberland Roll-Top Bottes दिसंबर का पहला सप्ताह गुजर जाने के बाद भी मरांची की सैकड़ों बीघा जमीन पर दलहनी फसलों की बोआई नहीं हो पायी है. Fjallraven Kanken France Nike Femme nike air max 1 femme rose बताया जाता है कि सैकड़ों बीघा जमीन पर अब भी दलदल है और बोआई के लिए वहां की मिट्टी तैयार नहीं हो पायी है. Stephen Piscotty Authentic Jersey Air Jordan 4 Adidas Yeezy 350 Homme मरांची के किसान नेता अरविंद सिंह ने बताया कि लगभग आठ सौ बीघा जमीन पर दलहनी फसलों की अब तक बोआई नहीं हो पायी है और किसानों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ रहा है. Ezekiel Elliott Boise State Broncos Jerseys Parajumpers Masterpiece Roosevelt कई किसानों ने खेत के तैयार नहीं होने के बावजूद इस उम्मीद में दलहनी फसलों के बीज का छिड़काव कर दिया कि खेत परती ना रह जाये. scarpe nike air max Nike Roshe Run Homme Canada Goose Snow Mantra Parka किसान मुन्ना कुमार ने बताया कि दलहनी फसलों की बोआई विलंबित हो जाने से उत्पादन पर भी असर पड़ता है, Air Jordan 3 (III) TEAM COURT canada goose canada goose homme लेकिन किसान अपने खेत को परती छोड़ नहीं सकता. Green Bay Packers Jerseys Under Armour Curry 1 canada goose freestyle vest किसान नेता अरविंद सिंह और मरांची उत्तरी पंचायत के मुखिया राम कुमार सिंह ने कहा कि जिन इलाकों में दलहनी फसलों की बोआई दिसंबर के पहले सप्ताह गुजर जाने के बाद भी नहीं हो पायी है वहां पर किसानों को मुआवजा देने का प्रावधान किया जाना चाहिए. Goedkope Nike Air Max 90 Parajumpers Californian Newport Nike Air Mag जलजमाव के कारण बोआई नहीं हो पाने को भी प्राकृतिक आपदा की श्रेणी में रखा जाना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *