मरने से डरा बलात्कारी मनीष

रामपुर डुमरा  मोकामा में हुए मुठभेड़ में पहले तो अपराधियों ने पुलिस पर फायरिंग करके बचना चाहा .पर एएसपी  मनोज कुमार तिवारी  कंहा मानने वाले थे , पहले तो एएसपी ने गोलियां चला रहे अपराधियों को बार-बार आत्मसमर्पण करने की चेतावनी देते रहे लेकिन एएसपी द्वारा बार-बार आत्मसमर्पण की चेतावनी देने के बावजूद अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग जारी रखी नतीजन  अपराधियों की अंधाधुंध फायरिंग देख एएसपी ने अपने साथ मौजूद हथिदह थानाध्यक्ष अविनाश कुमार, पंचमहला ओपी प्रभारी सुभाष कुमार को भी फायरिंग का आदेश दिया.जब पुलिस ने अपना आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया .जब पुलिस की गोलियां अपराधियों के कान और सर के पास से जाने लगी पुलिस को भारी पड़ता देख अपराधियों ने फायरिंग बंद कर दी.

वरीय पुलिस अधीक्षक मनु महाराज के निर्देश पर एएसपी मनोज तिवारी के नेतृत्व में गई टीम ने रामपुर डुमरा निवासी गौरव कुमार और शुभम कुमार, बड़हिया थाना अंतर्गत जैतपुर निवासी चंदन उर्फ चिंटू, मनीष कुमार और आलोक राज को गिरफ्तार किया. मनीष कुमार ने एक युवती का अपहरण कर अपने साथियों के साथ मिलकर बलात्कार किया था और उसके बाद गला दबाकर हत्या कर दी थी.