मोकामा
समाचार

नदी और भाषा के संगम आसान होगा मिलन

Spread the love

भाषा  के संगम के नाम से मशहूर मोकामा जन्हा से 3 भाषाओं के रस्ते खुलते  है .अंगिका जो मोकामा से भागलपुर के रास्ते को जोड़ता है,मैथिलि जो मोकामा और बेगुसराई के बीच  जबकि मोकामा से गया बिहारशरीफ राजगीर का रास्ता मगही से जुड़ा  हुआ है.

जबकि नदियों के संगम  प्रयाग इलाहबाद को कहा जाता है..

दोनों  जगहों पर रेल मार्ग से और सुगम किया गया है इस रेल को मार्च तक बढ़ा दिया गया ही. अब होली के मौसम में दोनों का संगम आसन हो जायेगा .

रक्सौल व सिकंदराबाद के बीच चल रही स्पेशल गाड़ी नंबर 07091/92 अब 30 मार्च तक चलेंगी। दोनों रूट से 10- 10 अतिरिक्त फेरे लगायेगी। गाड़ी नंबर 07091 प्रत्येक मंगलवार को सिकंदराबाद से रात नौ बजकर 40 मिनट पर प्रस्थान करेगी। नागपुर, इटारसी, जबलपुर, इलाहाबाद, मुगलसराय, बक्सर, आरा, पटना, मोकामा, बरौनी, समस्तीपुर, दरभंगा, सीतामढ़ी होते हुए गुरुवार को संध्या सवा छह बजे रक्सौल पहुंचेगी। जबकि रक्सौल से शुक्रवार को रात पौने एक बजे प्रस्थान करेगी। उपरोक्त जंक्शन पर रुकते हुए रविवार को सुबह छह बजकर 55 मिनट पर सिकंदराबाद पहुंचेगी। पूर्व में रेलवे ने इस ट्रेन को 23 जनवरी तक चलाने का ऐलान किया था। यात्रियों के भीड़ के बाद ट्रेन के परिचालन अवधि को विस्तारित किया गया है। 23 कोच के ट्रेन में स्लीपर के दस, एस तीन के चार, एसी दो के एक व छह सामान्य बोगी शामिल है।