Spread the love

मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं.

सूर्य जब धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है,तब मकर संक्रांति होती है।70 वर्ष पहले तक यह 12या13 जनवरी को पड़ती थी। अब 13या14जनवरी को पड़ती है।कुछ वर्ष से तो अब 15जनवरी को पड़ने लगी है। वस्तुत: यह पृथ्वी के सूर्य के चारों ओर घूमने से होता है। इस तिथि का बड़ा धार्मिक महत्व है। उत्तर भारत में इसे’खिचड़ी’ भी कहते हैं। इस दिन तिल का सेवन और दान करने का नियम है। तिल मिश्रित जल से स्नान, तिल का बना उबटन, तिल का हवन, तिल मिश्रित जल का पान,तिल का भोजन और तिल का दान यह छः कार्य किए जाते हैं। मकर संक्रान्ति के दिन गंगा स्नान और गोदान को बड़ा महत्त्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन गंगा तट पर बड़े-बड़े मेले लगते हैं।
आप सबको मकर संक्रान्ति की अनंत हार्दिक शुभकामनाएं।

मकर संक्रान्ति हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। मकर संक्रान्ति पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है क्योंकि इसी दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। मकर संक्रान्ति के दिन से ही सूर्य की उत्तरायण गति भी प्रारम्भ होती है। इसलिये इस पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायणी भी कहते हैं। तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं।

सप्रेम नमस्कार

Pramod Kumar

मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं