मोकामा शक्ति के लिए नही सेवा के लिए भी बहुत मशहूर है

रामाश्रय सिंह जी की मृत्यु के बाद भी सेवा का सिलसिला नहीं रुका .पिछले 35 सालों से सावन के हर सोमवारी को मोकामा के लोग देवघर के रास्ते में कावारिया और व्रतियों के लिए सेवा शिविर लगते है.35 साल पहले इसकी शुरुवात हुई थी .बबन सिंह, स्वर्गीय रामाश्रय सिंह, सुनील सिंह, जयराम सिंह ,छोटका बबन सिंह ,निरंजन सिंह, गोप सिंह ये सभी शुरुआत लगभग 35 वर्ष पहले की थी .आज नवयुवकों ने उनके साथ कंधा से कंधा मिलाकार इस सेवा शिविर को और भी सफल बना दिया है.कारू सिंह,राजेश सिंह उस्ताद,टुनटुन सिंह, मुरारी सिंह(2),धीरज सिंह(2), गौतम महात्मा जी,अविनाश जी,अशोक सिंह,राजकुमार जी,भागिरत जी,नंदू, रूपेश जी आदि और अन्य साथी सेवा शिविर में चारो सोमवारी अपना योगदान दे रहे हैं.गर्म पानी के छीटें ,आयोडेक्स ,दर्द निवारक स्प्रे ,पेन किलर आदि दवाई देकर कावारिया और व्रतियों के रस्ते को सुगम बनाते है

फलाहार,शरबत ,जूस ,फल ,ग्लूकोस ,शीतल पेय आदि उन्हें समर्पित कर वर्तियों की सेवा करते है .मोकामा का सेवा शिविर जिंदल स्टील सिटी कम्पनी के बैनर के निचे सम्प्पन होता है .विडिओ देखिये

Comments are closed.