मोकामा
संपादकीयसामाजिक

बच्चा बाबू को श्रद्धांजलि दी गयी

Spread the love

मोकामा। डॉ वैद्यनाथ शर्मा उर्फ बच्चा बाबू की आठवीं पुण्यतिथि पर 27 दिसम्बर को श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई एवं लघु काव्य गोष्ठी का आयोजन हुआ। गणित शिक्षक चन्दन कुमार के शिक्षण संस्थान में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में मगही कवि भाई बालेश्वर एवं शिक्षक अजय कुमार ने डॉ वैद्यनाथ शर्मा की तस्वीर पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम की शुरुआत की। तत्पश्चात उपस्थित गणमान्य जनों ने पुष्पांजलि अर्पित की।

प्रेम प्रकाश ‘मनोज’, सागर जी, संजय जी, पप्पू जी, धीरज कुमार, आनन्द मुरारी आदि ने अपने वक्तव्य में डॉ शर्मा को स्मरण किया। मोकामा की उन्नति तथा प्रगति में डॉ शर्मा की महत्ती भूमिका पर वक्ताओं ने सारगर्भित उद्गार व्यक्त किये। शिक्षण, सामाजिक एवं सांस्कृतिक क्षेत्र में बच्चा बाबू के सराहनीय योगदान को वक्ताओं ने अभिव्यक्त किया एवं मोकामा तथा बिहार की समृद्धि के लिए बच्चा बाबू ने जो स्वप्न देखे थे उसे साकार करने का स्वसंकल्प लिया गया।

काव्य गोष्ठी की शुरुआत मिथिलेश कुमार ने की और अपनी रचना में मोकामा की महत्ता को रेखांकित किया। आशुतोष कुमार आर्य उर्फ बौआ जी ने डॉ शर्मा के सम्पूर्ण जीवन एवं उनके अनुकरणीय योगदान को काव्य भाव में प्रस्तुत कर श्रोताओं की वाह वाही ली। प्रसिद्ध मगही कवि भाई बालेश्वर ने अपनी रचनाओं से सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। मोकामा का स्वर्णिम इतिहास और वर्तमान की चिंताजनक समस्याओं पर उन्होंने अपनी रचनाओं से कुठाराघात किया और नई पीढ़ी को कृतसंकल्पित होकर हर क्षेत्र में सफलता के शिखर पर पहुंचने हेतु प्रेरित किया जिससे बच्चा बाबू का मोकामा की समृद्धि के लिए देखा गया सपना पूरा हो। अजय कुमार ने शिक्षा एवं समाज हेतु बच्चा बाबू के योगदान को स्मरण किया एवं प्रेरणादायी काव्य पाठ किया। सुप्रीम कोर्ट में सेवारत युवा अधिवक्ता कुमार सानू ने उपस्थित विद्यार्थियों को रोचक अंदाज में स्वर्णिम भविष्य की सफलता के गुर दिए।

कार्यक्रम का संचालन डॉ सुधांशु शेखर ने किया एवं पप्पू जी ने आभार ज्ञापित किया।