डॉ बैद्यनाथ शर्मा

पुण्यश्लोक डॉ० वैद्यनाथ शर्मा जी का कायिक स्वरूप भले ही आज नहीं है , लेकिन उनका स्मार्तव्य स्वरूप आज भी हमारे बीच विद्यमान है ।उनकी सौम्यता , सहृदयता , अपनत्व एवं आत्मीयता के भावों को हम आज भी महसूस करते हैं ।

हर वर्ष उनकी पुण्यतिथि मनायी जाती है । इस वर्ष भी मनायी जा रही है । अतः आप सभी स्नेहसिक्तजनों से विनम्र अनुरोध है कि उनकी श्रद्धांजलि सभा में शामिल होकर उन्हें पुष्पांजलि एवं शब्दांजलि अर्पित करें ।

स्थान– गणित शिक्षक चंदन कुमार का अध्यापन स्थल
( यूनियन बैंक [ मोकामा ] के बगल में )
तिथि— 27-12-2017(बुधवार)

समय—अपराह्न 3 बजे ।

धूमधाम से मना क्रिसमस

मोकामा के नाजरथ में धूमधाम से मना क्रिसमस .फादर  ने संबोधन में कहा प्रभु यीशू को परमेश्वर ने संसार में पाप का अंत करने के लिए भेजा था न की पापियों के अंत के लिए. उन्होनें संसार के सभी प्राणियों को आपस में प्रेम भाव से रहने का संदेश दिया था.

मोकामा के आस पास के गावं से लोग क्रिसमस मनाने चर्च में आये.बच्चों  अनोखा उत्साह था.

जीसस क्राइस्ट के जन्मदिन के मौके पर मनाए जाने वाले इस त्योहार में ईसाई धर्म के लोगो ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया जबकि एनी धर्मो के लोगो ने भी यीशु को याद किया.मोकामा के नाजरथ चर्च का  दुनियाभर के चर्च में एक अहम् स्थान है.येसी मान्यता है की माँ मरियाक्म को यन देखा गया है.लोग  सुबह से ही प्रार्थना के लिए चर्च जा रहे थे जबकि  रात 12 बजे जीसस के जन्म के साथ ही लोग एक दूसरे को गले लगकर बधाई दे रहे  थे . चर्च में आए सभी लोगों को पादरी ने आशीर्वाद दिया , इसके बाद सभी लोगो ने  आपस में गिफ्ट्स और केक शेयर किया .

कब तक बाँझ बनेगी माएं.

पिछले 4-5 सालों में मोकामा में सड़क दुर्धटना में मारे जाने वालों की संख्या में बढ़ोतरी होती जा आ रही है. लगभग हर दुसरे दिन कोई न कोई मरता खपता रहता है. कब जागेगी प्रशासन ,क्यों कोई इंतजाम नहीं हो रहा ,सांसद ,विधायक पार्षद क्या सिर्फ चुनाव में ही बोलेंगे.

आखिर कब तक माएं बाँझ बनेगी,कब तक महिलाएं बेबा होगी.

आज भी मोकामा का एक होनहार लड़का प्रधुमन असमय काल के गाल में समा गया. क्या कुसूर था. यही न पढना चाहता था,अपने लिए,अपने परिवार के लिए,अपने देश के लिए कुछ करना चाहता था.अभी इंटर में था खूब मेहनत कर कुछ बनना चाहता था.बारह्पुर से मोकामा अपने सायकिल से इसी उम्मीद में ट्यूशन पढने  जा रहा था की वो कुछ कर पायेगा.मगर सत्ता और प्रसाशन के लालची लोगो ने सड़क को श्मशान बना के रख दिया है जिसमे आज वो भी लपेटे में आ गया.

आज सुबह 8 बजे बरहपुर  निवासी दिलीप सिंह का बेटा प्रधुमन जो इंटर का छात्र था ,जो बरहपुर  से मोकामा सायकिल से पढने जा रहा था. एक बालू लादे ट्रेक्टर से कुचल कर मर गया.

परिजनों का रो रो के बुरा हाल हो रखा है.गावं वालों से सड़क जाम कर दिया है.पुलिस उसे कुछ देर में हटा देगी मगर उनके घर का  कुलदीपक फिर नहीं आयेंगे.फिर उस घर में वो कभी नहीं मुस्कुराएगा.

काल के गाल मैं असमय एक फूल मुर्झा  गया. इश्वर उसकी आत्मा को शांति दें.

सत्ता और प्रशासन में बैठे लोग कुछ करें की येसी घटना दोबारा न हो.

 

Sandeep Mandal

महाराजा अहिबरन जयंती

24 /12/17 को मोकामा,जिला-पटना में महाराजा अहिबरन जी की जयंती मनाई गई,जिसमें कार्यक्रम की शुभारंभ महाराजा अहिबरन जी को पुष्पांजलि देकर की गई., फिर माल्यार्पण किया गया जिसमे हज़ारो की संख्या में बरनवाल परिवार उपस्थित हुए.कार्यक्रम में आये वक्ताओं ने बरनवाल समाज को सम्बोधित किया ,महाराजा अहिबरन जी के बारे में बताया. आज के सामज में उनके विचारो पर चलने का संकल्प लिया गया.डी ए वी स्कूल के प्रांगन में ये कार्यक्रम सादगी से मनाया गया.बरनवाल सेवा समिति के बेनर टेल ये कार्यक्रम आयोजित किया गया था.

गणित दिवस (रामानुजम जयंती )

मोकामा संस्कृत पाठशाला के द्वारा विगत 25  वर्षों से महान भारत के सपूत गणितज्ञ श्री रामानुजम जी  की जयंती पर गणित दिवस का आयोजन किया जा रहा है. इस  वर्ष भी ये कार्यकर्म बड़े धूम धाम से मनाया गया. इस अवसर पर गणित प्रतियोगिता, विज्ञान पर्दर्शनी का आयोजन हुआ.

कार्यकम के संस्थापक संजय सर ने अध्यक्षता की जबकि पप्पू दा मुख्य अतिथि के रूप में थे .अजय सर  जैसे शिक्षक ने अपनी उपस्थिथि से इसमें चार चाँद लगा दिया.रौशन भरद्वाज और कीर्ति आज़ाद ने बच्चों का उत्साहवर्धन किया.बिहट के चर्चित गणित शिक्षक नंदन जी और विकाश जी ने भी रामानुजम जयंती को सराहा.

पंकज जी और ललन जी ने संगीतमय प्रस्तुती दी .

वर्ग 9 का आदित्य कुमार ने चरखे से बल्ब जला कर सबको अचंभित किया.

इस बार 8 बच्चों को छात्रवृति भी डी गई .पहले स्थान प्राप्त करने वाले   को 1301,दुसरे  को 1001 (3 विद्यार्थी),जबकि तीसरे  स्थान पाने वाले को 801(4 विद्यार्थी)  रूपये की छात्रवृति दी गई. ये छात्रवृति संस्कृत पाठशाला के ही पूर्व छात्र उज्जवल कुमार(धौरानी टोला) के द्वारा दी गई .

 

 

जिए तो जिए कैसे

पिछले 5 दिनों के हरताल की वजह से मोकामा के अस पास ३००० से जायदा ट्रक फंसे हुए है .येसा  ही एक ट्रक जिसमे मछली भरी थी मोकामा के मोर गावं के पास फसी पड़ी है जिसकी मछली अब सड़ गई है और पुरे इलाके में जबरदस्त बदबू फैल रही है .आस पास के लोगो का जीना मुश्किल  हो गया है.गावं वालों की अपील है की  प्रशासन जल्द से जल्द इसको यंहा से हटा ताकि बीमारी फेलने से रोका जा सके.

Ramlakhan Singh

सफलता के लिए आत्मविश्वास होना अत्यंत आवश्यक है

#सफलता के लिए आत्मविश्वास होना अत्यंत आवश्यक है#
०००००००००००००००००००००००००००००००००००००
यदि आप महान् पुरुषों के जीवन-चरित्र पढ़े तो पायेंगे कि संसार की सभ्यता को ऊपर उठानेवाले महानुभावों ने अपना कार्य उस समय प्रारंभ किया था जब वे अत्यंत गरीब थे। साथ ही आपको यह भी पता लगेगा कि उन्होंने ऐसे कठिन रास्ते तय किए जिनमें दूर-दूर तक केवल असफलता ही दीख पड़ती थी।परन्तु फिर भी उन्होंने विश्वास नहीं छोड़ा और इसी विश्वास के साथ परिश्रम करते रहे कि कभी न कभी तो उन्हें सफलता प्राप्त होगी ही।वास्तव में उन्हें सफलता मिली,उनकी वर्षों की तपस्या का फल उन्हें मिला। उन्हीं के परिश्रम का फल आज संसार,भिन्न-भिन्न प्रकार के आविष्कारों में देख रहा है। यह उन्हीं लोगों के अथक प्रयास का फल है कि आज हम भाँति-भाँति के सुख भोग रहे हैं,दिनों का काम घंटों में और घंटों का काम मिनटों में पूरा कर लेते हैं।
उन लोगों पर विपत्ति के घने बादल छाये रहे पर वे निरुत्साहित नहीं हुए।अपने रास्ते पर बढ़ते ही गए और अंत में संसार को उनका लोहा मानना ही पड़ा। इससे सिद्ध होता है कि प्रत्येक कार्य को पूर्ण रूप और भली प्रकार से करने के लिए आत्मविश्वास होना अत्यंत आवश्यक है। आत्मविश्वास के सहारे ही आप अपने मंजिल पर पहुँच सकते हैं,क्योंकि आत्मविश्वास के द्वारा आपकी कार्य- संपादन की शक्ति कई गुना बढ़ जाती है।अत: युवापीढ़ी आत्मविश्वास के महत्व को समझें, यही आनेवाले नए साल में उनके लिए मेरी शुभकामनाएँ हैं।सप्रेम

Pramod Kumar

प्रखंड़ लोकशिक्षा समिति,मोकामा जागरूकता अभियान

प्रखंड़ लोकशिक्षा समिति,मोकामा,(पटना)|
दहेज एवं बाल- विवाह उन्मूलन हेतु जिला लोकशिक्षा समिति,पटना की कला- जथ्था की टीम ( ग्रुप:- बी ) मोर पश्चिमी पंचायत के पंचायत लोकशिक्षा केन्द्र,मध्य विधालय, सुलतानपुर में नाटक एवं लोकगीतों के माध्यम से अपनी प्रस्तुति देती हुई…

 

 

 

प्रखंड़ लोकशिक्षा समिति,मोकामा,(पटना)|
दहेज एवं बाल- विवाह उन्मूलन हेतु जिला लोकशिक्षा समिति,पटना की कला- जथ्था की टीम ( ग्रुप:- बी ) हिंदी नाट्य कला परिषद्, कन्हाईपुर में नाटक एवं लोकगीतों के माध्यम से अपनी प्रस्तुति देती हुई……

 

 

प्रखंड़ लोकशिक्षा समिति,मोकामा,(पटना)|
दहेज एवं बाल- विवाह उन्मूलन हेतु जिला लोकशिक्षा समिति,पटना की कला- जथ्था की टीम ( ग्रुप:- बी ),मोर पश्चिमी पंचायत के फुटानी चौक,,प्राथमिक विधालय,मोर मुशहरी के निकट, नाटक एवं लोकगीतों के माध्यम से अपनी प्रस्तुति देती हुई……

 

जन्मदिन मुबारक प्रेम रंजन सर

भारतीय संस्कृति का एक सूत्र वाक्य प्रचलित है तमसो मा ज्योतिर्गमय इसका अर्थ है अँधेरे से उजाले की ओर जाना। इस प्रक्रिया को वास्तविक अर्थों में पूरा करने के लिए शिक्षा, शिक्षक और समाज तीनों की बड़ी भूमिका होती है। भारतीय समाज शिक्षा और संस्कृति के मामले में प्राचीनकाल से ही बहुत समृद्ध रहा है। भारतीय समाज में जहाँ शिक्षा को शरीर, मन, और आत्मा के विकास का साधन माना गया है, वहीं शिक्षक को समाज के समग्र व्यक्तित्व के विकास का उत्तरदायित्व सौंपा गया है.

आप येसे ही एक शिक्षक है जो समाज को निरंतर आगे ले जाने के लिए अग्रसर है.मोकामा ऑनलाइन की तरफ से आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामना .ईश्वर आपको अच्छा स्वास्थ और बहुत साडी खुशियाँ दें.

जन्मदिन की शुभकामना विजय सर

एक शिक्षक के हाथ में समाज का निर्माण या विध्वंश छुपा होता है.वो जैसे चाहे वैसे समाज का निर्माण कर सकता है. विजय सर एक येसे ही शिक्षक है जो अपने समाज के निर्माण में लगे हुए है. आज इनके पढाये बच्चे समाज के हर क्षेत्र में अच्छा कर रहे है. विज्ञान महज एक ज्ञान भर नहीं है यह जीवन के रोजमर्रा से सीधे जुडी हुई है.विजय सर विज्ञान के शिक्षक है अपने बच्चो को दिन रात बेहतर बनाने के लिए पर्यत्न-शील है.

आज इनका जन्मदिन है .मोकामा ऑनलाइन इनके जन्मदिन के अवसर पर इन्हें ढेरों शुभकामना देता है.आप स्वस्थ हों खुश हों आपके बच्चे सफल हों.मोकामा के समाज को बेहतर बनाने में आपके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता.