+91 999436770

Category Archives: साहित्य

सगुनिया काकी और बिहार में चुनाव

जुलमिया काका मच्छर मारते हुए भोरे भोर उठ गए। ” इ मच्छर, उमस वाली गरमी और रात भर बिजली का दर्शन नहीं और ऊपर से बारिश है कि जान छोड़ता ही नहीं ” कहते हुए अपने बिछावन से उठ बैठे। सगुनिया काकी पंखा झलते हुए बोली, ” कहाँ तो मौसम विभाग कह रहा था कम […]

‘मोकामा फास्ट पैसेंजर’

वर्ष -2013 में ‘मोकामा फास्ट पैसेंजर’ नाम से एक फिल्म बनी थी … बांग्ला भाषा में बनी इस लघु फिल्म को 19वें कोलकाता फिल्म फेस्टिवल में नवम्बर-2013 में प्रदर्शित किया गया था …. फिल्म निर्माता ने अपनी फिल्म ‘मोकामा फास्ट पैसेंजर’ के बारे में लिखा है ‘यह जीवन प्रवाह की एक कथा है, जहां निरंतर […]

उड़ान

वह चिड़िया पेड़ की छोटे-से नीड़ की जिंदगी से ऊब चुकी थी। अब वह पूरे आकाश पर छा जाना चाहती थी। उसकी आंखों में ढेर सारे सपने थे। उसे सच करने का जुनून भी था। इसके लिए वह कुछ भी कर सकती थी। उसके पास जोश तो था, पर वह होश खो चुकी थी। वह […]

बसंत के आगमन पर………..

बसंत सुंदर या तुम सुंदर हो इसका निर्णय करेगा कौन! मानव की तो क्या शक्ति है देव दानव भी इस पर मौन!! दोनों ही मस्ती से भरती हैं दिव्यता का देतीं अहसास! मेहनत से जो नहीं मिलता है वह मिलता इन दोनों के पास!! रंग- बिरंगी तबियत दोनों की निकाले न निकले कोई कमी! तीन […]

अंग्रेजी नव- वर्ष मंगलमय हो!

अंग्रेजी नव- वर्ष मंगलमय हो! जड- चेतन यहां सब निर्भय हो!! उत्सवमय कामना जीवन की भरा करुणा से सबका हृदय हो!! अन्यों में देखे सब अपने को! हकीकत को भाई ;नहीं सपने को!! अपने में सब देखें दूसरों को नहीं कोई भी यहां सुनो निर्दय हो!! प्रत्येक साल में बारह हों महीने! कामना सबकी सुख […]